tata-tech-ipo

Tata Tech IPO: बीतें साल मानों तमाम टेक कंपनियों व स्टार्टअप्स के बीच अपना आईपीओ (IPO) दायर करने की होड़-सी नजर आ रही थी। लेकिन कई बड़े स्टार्टअप्स के आईपीओ का बुरा हाल होने के बाद से ही शेयर मार्केट में थोड़ी निराशा नजर आने लगी।

लेकिन अब शेयर मार्केट में निवेश करने वालों के लिए एक बेहद अच्छी और बड़ी खबर सामने आई है। असल में देश के सबसे बड़े औद्योगिक संस्थानों में से एक टाटा ग्रुप (Tata Group) लगभग 19 सालों के बाद एक और आईपीओ (IPO) लाने जा रहा है।

जी हाँ! सामने आई मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, टाटा मोटर्स (Tata Motors) की सहायक कंपनी, टाटा टेक्नोलॉजीज (Tata Technologies या Tata Tech) अब अपना IPO लाने की तैयारी में जुट गई है। यह खुलासा Economic Times की एक नई रिपोर्ट के हवाले से हुआ है।

Tata Tech IPO: लगभग ₹4,000 करोड़ जुटाने की कोशिश करेगी टाटा टेक 

रिपोर्ट के अनुसार Tata Tech का इरादा अपने इस आईपीओ के जरिए लगभग ₹4,000 करोड़ तक की धनराशि जुटाने का है। शेयर मार्केट की भाषा में कहें तो टाटा टेक के आईपीओ का इश्यू साइज़ ₹4,000 करोड़ तक का हो सकता है।

कंपनी इस इश्यू साइज के साथ अपनी कुल वैल्यूएशन को ₹16,200 करोड़ से ₹20,000 करोड़ (~ $2 – $2.5 बिलियन) तक ले जाना चाहती है। रिपोर्ट में मामले के जानकारों के हवाले से बताया गया है कि एन चंद्रशेखरन (N Chandrasekaran) के नेतृत्व वाले टाटा ग्रुप ने टाटा टेक के आईपीओ को सूचीबद्ध करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

रिपोर्ट की मानें तो इस आईपीओ प्रक्रिया के लिए कंपनी ने दो एडवाइजर्स नियुक्त किया हैं और यह एक और तीसरे एडवाइजर को भी जोड़ने की योजना बना रही है।

tata-tech-ipo Ratan Tata

टाटा ग्रुप ने एक्सचेंज फाइलिंग में यह बताया है कि यह आईपीओ एक उपयुक्त समय पर बाजार की स्थितियों, स्वीकृतियों और विनियामक की मंजूरी आदि को ध्यान में रखते हुए पेश किया जाएगा। लेकिन अब तक आईपीओ दायर करने की निश्चित तारीख के बारे में कोई जिक्र नहीं किया गया है।

अगर कंपनी की साल 2022 की वार्षिक रिपोर्ट की मानें तो Tata Technologies (Tata Tech) में Tata Motors लगभग 74.42% की हिस्सेदारी रखती है। वहीं Tata Capital Advisors द्वारा प्रबंधित सिंगापुर आधारित निवेश फर्म, Alpha TC Holdings भी Tata Tech में 8.96% की हिस्सेदार है।

साथ ही Tata Capital Growth Fund भी इस कंपनी में 4.48% का मालिक है। वहीं कंपनी के अन्य छोटे शेयरधारकों में टाटा मोटर्स फाइनेंस लिमिटेड, टाटा एंटरप्राइजेज ओवरसीज लिमिटेड, रतन टाटा, एस रामादुरई व अन्य नाम शामिल हैं।

बताते चलें कि Tata Technologies की शुरुआत साल 1989 में एक इंजीनियरिंग डिजाइन और तकनीकी सर्विस कंपनी के रूप में की गई थी, जो ऑटोमोटिव, एयरोस्पेस, भारी औद्योगिक मशीनरी और अन्य माँगो को पूरा करने का काम करती है।

पिछले कुछ सलाओं से यह कंपनी मूल उपकरण निर्माताओं (OEMs) के साथ मिलकर कॉन्सेप्ट इलेक्ट्रिक वाहनों (EVs) के उत्पादन, डिजिटल बिक्री और मार्केटिंग आदि पहलुओं को समझने व सीखने का काम कर रही है।

वर्तमान समय में Tata Tech में 9,300 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं, जो यूरोप से लेकर उत्तरी अमेरिका और एशिया-प्रशांत में ग्राहकों को सेवाएँ प्रदान कर रहे हैं।

असल में शेयर मार्केट में Tata Group के द्वारा पेश किए जा सकने वाले संभावित आईपीओ को लेकर बहुत उम्मीदें हैं। इसके पहले करीब 19 साल पहले (साल 2004 में) साल टाटा ग्रुप के मालिकाना हक वाली टाटा कंसल्टेंसी सर्विसे (TCS) ने अपना आईपीओ पेश किया था।