phonepe-raises-350-million-dollars-funding-from-general-atlantic

PhonePe raises $350 million at $12 billion valuation: भारत के डिजिटल पेमेंट ईकोसिस्टम में एक अहम हिस्सेदारी रखने वाली वॉलमार्ट (Walmart) समर्थित डिजिटल पेमेंट ऐप PhonePe ने अब बड़ी फंडिंग हासिल करते हुए देश में Paytm, Google Pay जैसे प्रतिद्वंदियो को और कड़ी टक्कर देने के लिए कमर कस ली है।

जी हाँ! असल में फिनटेक स्टार्टअप PhonePe ने आज यह बताया कि कंपनी ने अपने नए फंडिंग राउंड के तहत $12 बिलियन की प्री-मनी वैल्यूएशन पर General Atlantic के नेतृत्व में $350 मिलियन (लगभग ₹2,800 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

PhonePe की मानें तो यह निवेश जनवरी 2023 में शुरू हुई $1 बिलियन की पहल के तहत पहली किश्त के रूप में आया है। दिलचस्प बात ये है कि PhonePe इस वैल्यूएशन के साथ अब भारत का सबसे मूल्यवान फिनटेक स्टार्टअप बन गया है।

गौर करने वाली बात ये है कि यह निवेश कंपनी ने ऐसे वक्त में हासिल किया है, जब पिछले साल दिसंबर में ही PhonePe ने Flipkart से अलग होकर एक स्वतंत्र कंपनी बननें का ऐलान किया था। बताते चलें Flipkart ने साल 2016 में PhonePe का अधिग्रहण कर लिया था।

इतना ही नहीं बल्कि इस प्रक्रिया के बाद PhonePe पूरी तरह से भारत आधारित कंपनी बनने जा रही है, जिसकी प्रक्रिया भी 2022 में ही शुरू कर दी गई थी।

india-to-spend-rs-2600-cr-to-promote-rupay-and-upi

PhonePe raises $350 million

बता दें प्राप्त किए गए इस भारी निवेश का इस्तेमाल PhonePe अपने इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए करेगी, जिसमें डेटा सेंटर्स का विकास और देश में वित्तीय सेवाओं की पेशकश का विस्तार करना शामिल है।

साथ ही कंपनी बीमा, वेल्थ मैनेजमेंट और लोन जैसे नए व्यवसायों में भी निवेश करने की भी योजना बना रही है। कंपनी ने कहा कि यह अब UPI Lite और UPI के जरिए लोन आदि जैसी चीजों की ओर भी ध्यान केंद्रित करेगी।

इस नए निवेश के साथ PhonePe अब डेकाकॉर्न (Decacorn) स्टार्टअप ($10 बिलियन से अधिक वैल्यूएशन वाला) लिस्ट में शामिल हो गया है, जिसमें Walmart के मालिकाना हक वाले Flipkart, Paytm, BYJU’S और Swiggy का नाम पहले से शुमार है।

इतना ही नहीं बल्कि PhonePe ने वैल्यूएशन के मामले में डिजिटल पेमेंट और नियो-बैंकिंग यूनिकॉर्न -Razorpay को भी पछाड़ दिया है, जिसकी वैल्यूएशन फिलहाल $7.5 बिलियन तक बताई जाती है।

यह फंडिंग इसलिए भी अहम है क्योंकि जब Flipkart से अलग होकर PhonePe एक स्वतंत्र कंपनी बनी, तब इसकी वैल्यूएशन $5.5 बिलियन बताई जा रही है, तब Flipkart ने इसमें $700 मिलियन का निवेश किया था।

PhonePe की शुरुआत साल 2015 में Flipkart के ही पूर्व अधिकारियों समीर निगम (Sameer Nigam) राहुल चारी (Rahul Chari) और बुर्जिन इंजीनियर (Burzin Engineer) ने मिलकर की थी।

भारत में लगभग 40 करोड़ से अधिक पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के साथ, PhonePe देश के UPI जगत में भारी हिस्सेदारी रखता है। कंपनी का दावा है कि उसने छोटे शहरों में फैले 3.5 करोड़ से अधिक ऑफलाइन व्यापारियों को डिजिटाइज करने का काम किया है।