gomechanic-approaches-cars24-spinny-for-a-potential-acquisition

GoMechanic Layoffs: एक तरफ वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुस्ती का हवाला देते हुए जहाँ भारी संख्या में Microsoft, Amazon India, Ola, ShareChat आदि जैसे दिग्गज कंपनियाँ कर्मचारियों को निकाल रही हैं, वहीं दूसरी ओर अब एक नए तरीके की छंटनी का मामला सामने आया है, जिसमें कंपनी की वित्तीय रिपोर्टिंग में खामियों के चलते एक साथ 70% कर्मचारियों को अपनी नौकरी गँवानी पड़ी है।

जी हाँ! हम बात कर रहे हैं Sequoia India समर्थित कार वर्कशॉप और ऑटो स्पेयर पार्ट्स प्लेटफॉर्म, GoMechanic की, जिसके सह-संस्थापक अमित भसीन (Amit Bhasin) ने आज एक लिंक्डइन (LinkedIn) पोस्ट शेयर करके सबको हैरान कर दिया, खासकर अपने कर्मचारियों को!

अपने इस लिंक्डइन पोस्ट में अमित भसीन ने लिखा;

“बतौर उद्यमी, हम समस्याओं को पहचानें की कोशिश करते हैं, उनके समाधानों के साथ सामने आते हैं और आवश्यकताओं के अनुरूप उन समाधानों को विकसित करने के हर संभव अवसर की तलाश करते हैं। लेकिन इस बार हम शायद बहक गए।”

“हमारे क्षेत्र की आंतरिक चुनौतियों से बचे रहने और हर कीमत पर विकास की रफ्तार को बनाए रखने के लिए पूंजी के प्रबंधन को लेकर लिए गए निर्णय में हमसे गंभीर गलतियाँ हुई, खासकर वित्तीय रिपोर्टिंग के संबंध, जिसका हमें बहुत अफसोस है।”

“हम इन हालातों की पूरी जिम्मेदारी लेते हैं और इसलिए हमें पूंजी समाधान की तलाश करने के लिए व्यवसाय का पुनर्गठन करने का फैसला किया है।”

उन्होंने आगे कहा कि यह पुनर्गठन आसान नहीं होने वाला है, और दुर्भाग्यवश हमें अपने लगभग 70% कर्मचारियों को अलविदा कहना होगा।

यह भी सामने आया है कि इस अचानक की जा रही भारी छंटनी के चलते विशेष तौर पर ऑन-ग्राउंड स्टाफ विभागों के कर्मचारी बड़ी संख्या में प्रभावित हो सकते हैं।

साथ ही अमित ने यह भी जानकारी दी है कि एक थर्ड पार्टी फर्म द्वारा कंपनी के बिजनेस का ऑडिट भी किया जाएगा।

ख़बरों की मानें तो, 70% कर्मचारियों को निकालने के बाद बचे हुए कर्मचारियों से यह कहा गया है कि उन्हें लगभग 3 महीनें तक बिना वेतन के काम करना पड़ेगा।

GoMechanic founder admits to financial reporting errors, to lay off 70% of workforce
GoMechanic Layoffs – Amit Bhasin’s LinkedIn Post

क्या है वजह?

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गुरुग्राम आधारित इस स्टार्टअप को यह कदम इसलिए उठाना पड़ा है क्योंकि कंपनी अपनी गलतियों के चलते हाल में बनी-बनाई निवेश डील को बिगाड़ दिया।

असल में वित्तीय रिपोर्टिंग में गंभीर खामियों की वजह से नई फंडिंग को लेकर कई निवेशकों के साथ चल रही बात बिगड़ गई और अब बीते 1 साल से अधिक समय से यह स्टार्टअप फंडिंग हासिल करने को लेकर संघर्ष कर रहा है।

खबर तो ये भी है कि कंपनी की वित्तीय गड़बड़ियों का पता लागने के बाद, इस स्टार्टअप में सबसे बड़े निवेशक के तौर पर शामिल Sequoia India कंपनी के बैलेन्सशीट का फॉरेंसिक ऑडिट करवा सकती है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले साल की शुरुआत में इस स्टार्टअप ने कथित रूप से Tiger Global के नेतृत्व में $1 बिलियन से अधिक की वैल्यूएशन पर फंडिंग हासिल करने के लिए बातचीत की पहल की थी।

GoMechanic की शुरुआत साल 2016 में कुशाल करवा (Kushal Karwa) और अमित भसीन (Amit Bhasin) ने मिलकर मोटर वाहनों के अधिकृत सर्विस सेंटर्स और स्थानीय वर्कशॉप्स के बीच की खाई को पाटने के मकसद के साथ की थी।