sharechat-layoffs-600-employees

ShareChat Layoffs 600 Employees: ऐसा लगता है कि बड़ी-बड़ी कंपनियों में छंटनी का दौर फिलहाल रुकने वाला नहीं है। भारत समेत दुनिया भर की कई टेक दिग्गज कंपनियाँ हाल ही में बड़े पैमानें पर छंटनी कर रही हैं।

और इस इसी क्रम में अब भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म शेयरचैट (ShareChat) ने एक बार फिर से कंपनी के लगभग 20% कर्मचारियों को निकालने का फैसला किया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

सामने आई रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ShareChat और शॉर्ट-वीडियो ऐप Moj पर मालिकाना हक रखने वाली कंपनी Mohalla Tech ने छंटनी के नए दौर में लगभग 20% कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाया है।

असल एमिन ET द्वारा प्रकाशित एक नई रिपोर्ट में कंपनी के सीईओ, अंकुश सचदेवा (Ankush Sachdeva) द्वारा कर्मचारियों के साथ साझा किए गए के ‘इंटरनल नोट’ का हवाला देते हुए इस खबर को सामने रखा गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, अंकुश सचदेवा के अपने कर्मचारियों से कहा;

“अर्थव्यवस्था की मौजूदा अनिश्चित स्थिति को देखते हुए, कंपनी को वित्तीय रूप से सक्षम व लंबे समय तक के संचालन को सुनिश्चित करने के लिए हमने लगभग 20% प्रतिभाशाली एपूर्णकालिक कर्मचारियों को निकालने का एक कठिन निर्णय लिया है।”

आपको बता दें बेंगलुरु आधारित इस कंपनी द्वारा 20% कर्मचारियों की छंटनी का सीधा मतलब ये है कि इससे लगभग 500-600 कर्मचारियों को अपनी नौकरी खोनी पड़ेगी।

layoffs

ShareChat Layoffs 20% (~600) Employees:

बताया जा रहा है कि नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों को उनके नोटिस पीरियड की पूरी सैलरी, कंपनी के साथ बिताए हर साल के लिए दो हफ्ते की सैलरी, दिसंबर 2022 तक के वैरिएबल पे का 100 फीसदी पेमेंट और उनकी शेष छुट्टियों के बदले 45 दिन तक की पेमेंट भी दी जाएगी।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ShareChat की पैरेंट कंपनी द्वारा की गई इस छंटनी के चलते इसके कुल 2,100 कर्मचारियों में से सीनियर मैनेजमेंट और मिड-टू-जूनियर मैनेजमेंट के लगभग 600 कर्मचारी प्रभावित होंगे।

गौर करने वाली बात ये है कि यह नई छंटनी (Layoff) ऐसे वक्त में किया जा रहा है जब बीते दिसंबर में ही Mohalla Tech ने अपने फैंटेसी गेमिंग प्लेटफॉर्म Jeet11 को बंद करते हुए 100 कर्मचारियों को नौकरी से निकालने का ऐलान किया था।

कंपनी का ये निर्णय लोगों को इसलिए भी हैरान कर रहा है क्योंकि लगभग 6 महीनें पहले ही कंपनी ने $255 मिलियन का निवेश हासिल किया था। ख़बरों के अनुसार, कंपनी ने प्रभावित कर्मचारियों के Slack और ईमेल एक्सेस को बंद कर दिया है।

ShareChat की शुरुआत साल 2015 में अंकुश सचदेवा, भानू प्रताप सिंह और फरीद अहसान ने मिलकर  की थी। अपनी मूल कंपनी के तहत यह Moj नामक एक शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म का भी संचालन करती है, जो भारत में TikTok बैन होने के बाद से काफी लोकप्रियता अर्जित कर चुका है।

बताया ये जा रहा है कि मौजूदा ‘फंडिंग विंटर’ के हालातों को देखते हुए कंपनी अब इस साल निवेश के लिए काफी सतर्क रहने वाली है। कंपनी जाहिर तौर पर अपने लाइव स्ट्रीमिंग और विज्ञापन के जरिए राजस्व कमाई को तेजी से बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करेगी।