gem-portal-records-mses-and-women-entrepreneurs-success

GeM Portal – MSEs & Women Entrepreneurs: भारत सरकार द्वारा शुरू की गई सार्वजनिक खरीद पहल, ‘गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस’ या ‘GeM’ को लेकर अब कुछ दिलचस्प आँकड़े सामने आए हैं, जो देश के छोटे उद्यमियों और खासकर महिला उद्यमियों को बहुत उत्साहित करने वाले हैं।

आपको शायद याद हो कि साल 2019 में भारत सरकार ने महिला उद्यमियों और स्वयं सहायता समूहों (SHG) को अनौपचारिक रूप से प्रोत्साहित करने के मकसद के साथ अपना Womaniya on Government eMarketplace प्रोग्राम शुरू किया था। और अब इसी से संबंधित कुछ आँकड़े साझा किए गए हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में भारत सरकार के वाणिज्य मंत्रालय ने जारी किए गए एक बयान में यह बताया है कि साल 2019 में Womaniya प्रोग्राम की शुरुआत से अब तक कुल 1.44 लाख महिलाओं के नेतृत्व वाले सत्यापित सूक्ष्म और लघु उद्यमों (MSE) को पंजीकृत किया गया है।

इन आंकड़ों को पेश करते हुए मंत्रालय ने बताया कि महिलाओं के नेतृत्व वाले इन MSEs विक्रेताओं ने 2019 के बाद से अब तक सकल व्यापारिक मूल्य (जीएमवी) के लिहाज से ₹21,265 करोड़ के 14.76 लाख से अधिक ऑर्डर पूरे कर लिए हैं।

GeM Portal – Women Entrepreneurs

अगर इस अवधि के दौरान GeM पोर्टल पर प्राप्त कुल ऑर्डरों की संख्या को देखें तो इनमें से बेचे गए कुल प्रोडक्ट्स की ऑर्डर वैल्यू के लिहाज 74% और कुल बेचीं गए सर्विस की ऑर्डर वैल्यू की 26% हिस्सेदारी अकेले महिला उद्यमियों के खाते में गई।

gem-portal-records-mses-and-women-entrepreneurs-success

बताते चलें कि Womaniya on Government eMarketplace प्रोग्राम के तहत GeM पोर्टल पर हस्तशिल्प सामान, जूट उत्पादों, बांस के उत्पादों, जैविक खाद्य पदार्थों, मसालों, घर की सजावट और ऑफ़िस के सामान आदि तमाम कैटेगॉरी में विभिन्न सरकारी खरीदारों को सीधे अपने उत्पादों की बिक्री कर सकने की सुविधा प्रदान की जाती है।

GeM पोर्टल को लेकर अब तक उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, फिलहाल इसमें लगभग 57.67 लाख विक्रेताओं ने खुद को पंजीकृत किया है। ये कुल मिलाकर अब तक 1.3 करोड़ ऑर्डर पूरे कर चुके हैं, जिनकी जीएमवी वैल्यू ₹3.62 लाख करोड़ की है

अब तक इस पोर्टल में कुल विक्रेताओं की संख्या में महिलाओं के नेतृत्व वाले MSEs की हिस्सेदारी 2.49% की है। वहीं कुल ऑर्डर संख्या में इनकी हिस्सेदारी 11.2% और कुल जीएमवी में 5.8% है।

दिलचस्प रूप से महिला उद्यमियों की अधिकतम संख्या के साथ शीर्ष पांच प्रोडक्ट कैटेगॉरी डेस्कटॉप कंप्यूटर, स्मार्टफोन, विशेष प्रयोजन के टेलीफोन और हॉपर टिपर डम्पर रहे, वहीं शीर्ष सर्विस कैटेगॉरी जनशक्ति आउटसोर्सिंग सेवाएं थीं, जिनमें न्यूनतम मजदूरी , सेवाओं के लिए कस्टम बिड, मानव संसाधन आउटसोर्सिंग सेवा, मासिक आधार कैब और टैक्सी किराए पर लेने की सेवाएं आदि शामिल रहीं।

बता दें कि GeM ने शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में सिलाई-बुनाई का काम करने वाली महिलाओं को हाइपरलोकल बाजारों तक व्यापक पहुंच प्रदान करने के लिए पोर्टल पर एक नया सर्विस वर्टिकल ‘स्टिचिंग एंड टेलरिंग सर्विसेज’ भी लॉन्च किया है। इसके तहत विभिन्न सरकारी विभागों द्वारा ऑफ़िस की ड्रेस यूनिफॉर्म, सजावटी एक्सेसरीज आदि कैटेगॉरियों में अवसर मिल सकेंगें।