pune-labour-commissioner-summons-amazon-over-mass-layoffs
Credits: Amazon Smbhav

Pune labour commissioner summons Amazon over mass layoffs: दुनिया भर में तमाम दिग्गज कंपनियों में छंटनी का दौर जारी है। और हाल ही में ही वैश्विक रूप से 18,000 (रिपोर्ट के मुताबिक, भारत से लगभग 1,000) कर्मचारियों की छंटनी के ऐलान के बाद अब देश में Amazon की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं।

इस छंटनी की प्रक्रिया को लेकर अब पुणे में सहायक श्रम आयुक्त (लेबर कमिश्नर) के कार्यालय द्वारा Amazon India को समन भेजा गया है। कंपनी के प्रतिनिधियों को 17 जनवरी को पेश होने के लिए कहा गया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ये मुद्दा Amazon India द्वारा कर्मचारियों की संख्या कम करने के लिए कुछ महीने पहले पेश किए गए Voluntary Separation Program (VSP) से संबंधित है।

नवंबर 2022 में, Amazon ने अपने कर्मचारियों के लिए VSP प्रोग्राम पेश किया था, जिसके तहत कर्मचारियों को कुछ विशेष लाभों के साथ स्वेच्छा से नौकरी से इस्तीफा देने की सुविधा पेश की गई थी। इनमें शामिल लाभों में 22 सप्ताह का मूल वेतन, प्रत्येक छह महीने की सेवा के लिए एक सप्ताह का मूल वेतन (अधिकतम 20 सप्ताह तक) आदि शामिल था।

Pune labour commissioner summons Amazon 

बताते चलें कि भारत में आईटी और इससे संबंधित क्षेत्र के कर्मचारियों से जुड़े एक गैर-सरकारी संगठन, Nascent Information Technology Employees Senate (NITES) की शिकायत के बाद ही लेबर ऑफ़िस की पुणे शाखा की ओर से यह कदम उठाया गया है।

amazon-to-layoff-over-18000-employees

पुणे लेबर कमिश्नर ऑफ़िस ने Amazon और इस संबंधित यूनियन के प्रतिनिधियों को 17 जनवरी को उपस्थित होने के लिए कहा है, जिसके बाद इस ई-कॉमर्स दिग्गज पर लगे “अनैतिक और अवैध” छंटनी के आरोपों को लेकर चर्चा की जाएगी और आवश्यकता होने पर जाँच की कार्रवाई की जा सकती है।

बताते चलें Amazon India फिलहाल देश में लगभग 1,00,000 कर्मचारियों को रोजगार दे रही है। लेकिन हाल में ही जेफ बेजोस (Jeff Bezos) के बाद Amazon के नए सीईओ (CEO) बने, एंडी जेसी (Andy Jassy) ने कर्मचारियों को एक ईमेल (कंपनी नोट) के जरिए छंटनी की जानकारी दी थी।

जेसी ने दुनिया भर में बनी “अर्थव्यवस्था की अनिश्चित स्थिति” को नौकरियों में कटौती की बड़ी वजह बताया था। Amazon के सीईओ ये यह ऐलान किया था कि कंपनी 18,000 कर्मचारियों की छंटनी करने जा रही है, इसके बाद से ही भारत में इसके प्रभाव को लेकर चर्चा तेज हो गई हैं।

हाल में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में Amazon लगभग 1,000 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा सकती है।बताते चलें कि रिपोर्ट के अनुसार, Amazon India की इस छंटनी प्रक्रिया में कोर ऑपरेशंस टीम को छोड़ते हुए, टेक, HR और Prime टीमों में कटौती की जा सकती है।

इसके पहले सामने आई खबरों के मुताबिक Amazon India ने कई जॉब रोल्स को खत्म करते हुए गुरुग्राम और बेंगलुरु में कई तकनीकी टीमों का विलय (मर्जर) कर दिया है।

बताते चलें कंपनी द्वारा नवंबर में पेश की गई VSP पेशकेश को लेकर श्रम मंत्रालय ने नवंबर में ही Amazon India को एक नोटिस भेजा था।