zoom-seeks-govt-nod-to-introduce-phone-calling-service-in-india

Zoom Phone Calling Service in India: महामारी के दौरान लॉकडाउन में खूब लोकप्रियता अर्जित करने वाली अमेरिका आधारित कम्यूनिकेशन कंपनी, जूम वीडियो कम्युनिकेशंस इंक (Zoom Video Communications Inc.) अब भारतीय बाजार में नई संभावनाओं को तलाशने की ओर बढ़ना चाहती है।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि Zoom अब भारत में अपनी जूम फोन (Zoom Phone) सेवा को पेश करने की तैयारी कर रही है और इसके लिए कंपनी ने भारत सरकार से मंजूरी भी मांगी है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

जाहिर है पहला सवाल आपके मन में आ रहा होगा कि भला ये Zoom Phone सर्विस है क्या? तो आपको बता दें Zoom Phone मुख्य रूप से एक वॉइस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (VoIP) सक्षम सेवा है, जो बिजनेसों को क्लाउड-आधारित Zoom सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हुए, फोन कॉल कर सकने की सहूलियत प्रदान करती है।

Mint की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक इंटरव्यू के दौरान Zoom के एशिया-प्रशांत क्षेत्र के प्रमुख, रिकी कपूर (Ricky Kapur) ने कहा;

“हम Zoom Phone नामक एक फीचर पर काम कर रहे हैं, जो वैश्विक स्तर पर बहुत सफल साबित हुआ है। हम इसे नई सर्विस को भारत में लॉन्च करने के लिए तय नियामक प्रक्रियाओं के साथ बढ़ रहे हैं।”

Zoom Seeks Govt Nod To Introduce Phone Calling Service In India

इस बीच Zoom की ओर से ये स्पष्ट नहीं किया गया है कि भारत में Zoom Phone सेवा की पेशकश करने के लिए इसे किस प्रकार के लाइसेंस और किन-किन मंजूरियों की जरूरत पड़ेगी?

लेकिन कंपनी का ये कदम एक दिलचस्प समय में आया है। ऐसा इसलिए क्योंकि हाल में ही भारत सरकार व्हाट्सऐप (WhatsApp), टेलीग्राम (Telegram) और जूम (Zoom) जैसी ओवर-द-टॉप (OTT) कंपनियों को कॉलिंग सेवाएं प्रदान करने के लिए टेलीकॉम लाइसेंस हासिल करने की शर्तों के तहत लाने का प्रयास कर रही है।

याद दिलाते चलें कि इसी साल अगस्त में देश के दूरसंचार विभाग (DoT) ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) से देश में इंटरनेट कॉलिंग और मैसेजिंग सेवाओं की पेशकश करने वाले प्लेटफार्मों को रेग्युलेट करने के लिए नियमों का नया खाँका तैयार करने के लिए का था।

इसके साथ सितंबर महीने में सार्वजनिक परामर्श व फीडबैक के लिए पेश किए गए इंडियन टेलीकम्युनिकेशन बिल, 2022 ( Indian Telecommunication Bill, 2022) के ड्राफ्ट में यह प्रस्ताव भी शामिल नजर आया कि टेलीकॉम सेवाओं की पेशकश करने वाले ओटीटी प्लेटफॉर्म को भी टेलीकॉम ऑपरेटरों की तरह सरकार से लाइसेंस हासिल करना चाहिए।

जानकारी के लिए बता दें कि Cisco की इकाई Webex India इस साल सितंबर में भारत में दूरसंचार लाइसेंस प्राप्त करने वाली पहली ओटीटी कंपनी बन गई है। असल में Zoom की तरह ही Webex का इस्तेमाल भी व्यवसाय वीडियो कम्यूनिकेशन, कॉलिंग आदि चीजों के लिए कर सकते हैं।

Zoom ने सबसे पहले साल 2020 में बेंगलुरु में अपना पहला टेक्नोलॉजी सेंटर खोला था, इसके बाद अप्रैल, 2022 में कंपनी ने चेन्नई में अपने दूसरे टेक्नोलॉजी सेंटर का भी अनावरण किया।

Zoom Phone Calling India

जाहिर है महामारी के दौरान वर्क-फ्रॉम-होम के बढ़े चलन के चलते, Zoom ने भारत समेत दुनिया भर में अचानक तेज वृद्धि दर्ज की थी, लेकिन जैसे-जैसे अब चीजें सामान्य होने लगी हैं, इसकी मांग भी धीमी पड़ने लगी है।

ऐसे में कंपनी की कोशिश है कि भारत जैसे बड़े बाजार, जहाँ पहले से ही Microsoft और Cisco जैसे बड़े दिग्गज प्रतिद्वंदी मौजूद हैं, वहाँ नई सेवाओं को शामिल करते हुए विकास की रफ्तार को बनाए रखा जाए।

ऐसे में कंपनी महज एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग ऐप तक सीमित ना रह कर, बल्कि हर प्रकार की कम्यूनिकेशन सेवाओं की पेशकश करना चाहती है। साथ ही इसनें डिजिटल अवतार जैसे कुछ मेटावर्स (Metaverse) फीचर्स को भी प्लेटफ़ॉर्म में जोड़ते हुए, वक्त के साथ कदम से कदम मिला कर चलने के साफ संकेत दे दिए हैं।