eco-friendly-ecommerce-startup-onegreen-raises-funding

SEBI to roll out guidelines for financial influencers: आज के दौर में सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्मों की लोकप्रियता के बारे में कुछ ज़्यादा कहने की जरूरत नहीं है। कई सारे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म जैसे YouTube, Instagram, Facebook, Twitter आदि आज के समय में एक साथ बड़ी संख्या में लोगों के साथ संवाद करने का सरल माध्यम बन गए हैं।

और ऐसे माहौल में सोशल मीडिया पर विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े इन्फ्लूएंसर्स (Influencers) की तादाद तेजी से बढ़ रही है, जो अपने दर्शकों व फ़ॉलोवर्स के साथ काफी मजबूत संबंध स्थापित किए हुए हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इन्हीं में से एक कैटेगॉरी फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स (Financial Influencers) की भी है, जो सोशल मीडिया पर लोगों को वित्तीय सलाह (Financial Advice) देने का काम करते हैं। यूँ तो कई फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स बड़ी ज़िम्मेदारी के साथ अपने काम को करते हुए, लोगों को उचित सलाह प्रदान करने की कोशिश करते हैं।

लेकिन इंटरनेट के बढ़ते प्रसार के साथ कई ऐसे फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स भी हैं, जिनके सुझावों को मान कर कई लोग गलत चीजों में निवेश कर अपनी मेहनत की कमाई से हाथ धो बैठते हैं। पर ऐसा लगता है कि अब यह तस्वीर जल्द बदल सकती है।

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि शेयर बाजार नियामक – सिक्योरिटीज एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स की बढ़ती संख्या और लोगों के बीच उनके व्यापक प्रभावों को देखते हुए, इस क्षेत्र में निगरानी रखने के लिए नई गाइडलाइंस तैयार करने का काम शुरू किया है।

असल में देश के कैपिटल मार्केट नियामक ने यह कदम इसलिए भी उठाया है क्योंकि कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मौजूद फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स बिना लाइसेंस के ‘फाइनेंस ट्रेड’ संबंधित सुझाव देते हैं।

guidelines for financial influencers

ये इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि वर्तमान समय में सोशल मीडिया पर ऐसी गतिविधियों पर लगाम लागने के लिए कोई पुख्ता नियामक ढांचा या दिशानिर्देश मौजूद नहीं है। इसलिए SEBI चाहता है कि एक ऐसा सिस्टम बनाया जाए, जिससे सोशल मीडिया पर फैल रहे ऐसे तमाम गलत सुझावों को रोका जा सके, जो लोगों को वित्तीय तौर पर नकारात्मक रूप से प्रभावित करती है।

SEBI to roll out guidelines for financial influencers

देखा ये जा रहा है कि आज के समय ऐप/प्रोडक्ट आधारित कंटेंट आधारित कंटेंट की संख्या बढ़ती जा रही है और सोशल मीडिया पर कई फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स बिना किसी उचित लाइसेंस के लोगों को किसी विशेष संपत्ति या ऐप पर निवेश करने के लिए प्रेरित करते हैं।

ऐसे में जानकारों का मानना है कि SEBI द्वारा पेश की जा सकने वाली गाइडलाइंस की आने दे सोशल मीडिया पर सक्रिय फाइनेंशियल इन्फ्लूएंसर्स की भी जवाबदेही तय की जा सकेगी और उम्मीद ये है कि इसके चलते वह ज़िम्मेदारी के साथ लोगों के सामने निवेश संबंधित अपने सुझाव रखेंगें।

आपको बताते चलें कि इसके पहले SEBI ने WhatsApp Group और Telegram चैनलों पर अंकुश लगाया था, क्योंकि इन माध्यमों में ‘अनधिकृत’ और ‘अनाम संस्थाएं’ निवेशकों के साथ ट्रेडिंग सलाह शेयर कर रही थीं।