ev-startup-corrit-electric-raises-rs-73-crore-funding
Image Credit: Corrit Electric

Startup Funding – Corrit Electric: भारत मौजूदा समय में दुनिया के साथ इलेक्ट्रिक वाहन क्षेत्र में कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ने के प्रयास कर रहा है। इसमें सबसे अहम रोल अदा कर रहे हैं देश के तमाम स्टार्टअप्स जो अपने इनोवेशन व तकनीक के जरिए ईवी बाजार को समृद्ध बनाने का काम कर रहे हैं। ख़ुशी की बात ये है कि उनके इन प्रयासों को अब निवेशकों का साथ भी मिल रहा है।

इसी क्रम में अब नोएडा आधारित इलेक्ट्रिक मोबिलिटी ब्रांड Corrit Electric ने अपने सीरीज-ए फंडिंग राउंड में $9 मिलियन (लगभग ₹73 करोड़) का निवेश हासिल किया है। कंपनी को यह निवेश अर्ली-स्टेज वेंचर कैपिटल फंड, SphitiCap से मिला है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

कंपनी के मुताबिक, SphitiCap से प्राप्त की गई इस धनराशि के जरिए यह आने वाले तीन सालों में सड़क पर लगभग 1,50,000 Corrit Electric बाइक उतारने के अपने लक्ष्य को हासिल कर सकेगी।

अपनी मौजूदा उत्पादन सुविधा को बढ़ाने के साथ ही यह स्टार्टअप नई लास्ट-मील डिलीवरी ई-बाइक लॉन्च करने की योजना भी बना रहा है। असल में कंपनी आने वाले सालों में हाई-स्पीड वाहनों के दो अलग-अलग मॉडलों के उत्पादन का लक्ष्य लेकर भी चल रही है।

Corrit की शुरुआत साल 2020 में मयूर मिश्रा (Mayur Misra) द्वारा की गई थी, जिसका मकसद इलेक्ट्रिक वाहनों की एक नई श्रृंखला पेश करना है, जो कीमत और रखरखाव की लागत, दोनों लिहाज से किफायती हो।

इस स्टार्टअप ने सबसे पहले अक्टूबर 2020 में अपनी पहली मोटे-टायर वाली इलेक्ट्रिक बाइक Hover 1.0 को लॉन्च किया था और बाद में इसकी सफलता को देखते हुए, नए अपडेट्स के साथ दो और वेरिएंट – Hover 2.0 और Hover 2.0+ को भी पेश किया।

Corrit Electric
Corrit Electric

नए निवेश को लेकर, कंपनी के संस्थापक और सीईओ, मयूर मिश्रा ने कहा;

“ऐसी उम्मीद की जा रही है कि आने वाले 3 से 5 साल में खरीदे गए नए दोपहिया वाहनों में से इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी 50% तक होगी। हमें ख़ुशी है कि SphitiCap ने हम पर भरोसा जताया, क्योंकि हम जिस बाजार की ज़रूरतों को पूरा करने की दिशा में बढ़ रहे हैं, वे उस बाजार को समझते हैं।”

“हासिल किए गए इस निवेश का इस्तेमाल हाई-स्पीड वाहनों के दो अलग-अलग मॉडलों के उत्पादन के लिए किया जाएगा, जिन्हें आने वाले सालों में लॉन्च करने का इरादा है। साथ ही हम मार्केटिंग आदि में भी निवेश करने की योजना बना रहे हैं, ताकि देश भर में अपने उत्पादों को सही दर्शकों तक पहुँचा सकें।”

India Energy Storage Alliance (IESA) की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत का इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) बाजार आगामी साल 2027 तक 63 लाख यूनिट प्रति वर्ष से अधिक का आँकड़ा दर्ज करता नजर आ सकता है।

इस बीच SphitiCap के मैनेजिंग पार्टनर, मयंक मेहरा (Mayank Mehra) ने कहा;

“मौजूदा वक्त में तेजी से फैल रही ईवी क्रांति के चलते, हमारा मानना है कि यह समय ईवी बाजार में निवेश करने के लिहाज से बेहद उपयुक्त है। Corrit ने आने वाले तीन सालों में अपनी पेशकशों और योजनाओं के साथ एक बेहतरीन रोडमैप पेश किया है, जिसके चलते वह हमारे पोर्टफोलियो के लिए एक सही चुनाव हैं।”