gaming-marketplace-driffle-raises-rs-27-crore-funding

Startup Funding – Driffle: डिजिटल गेमिंग सेगमेंट उन चुनिंदा क्षेत्रों में से है, जिसनें बीते कुछ सालों में एक व्यापक स्वरूप हासिल किया है। इसी कड़ी में अब डिजिटल गेमिंग मार्केटप्लेस Driffle ने अपने सीड फंडिंग राउंड के तहत $3.4 मिलियन (लगभग ₹27.5 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

कंपनी को यह निवेश BEENEXT के नेतृत्व में मिला है। वैसे इस निवेश दौर में JAFCO Asia, Taurus Ventures, Better Capital और White Venture Capital ने भी भागीदारी दर्ज करवाई।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इतना ही नहीं बल्कि कुछ दिग्गज व्यक्तिगत निवेशकों जैसे कुणाल शाह, मनिंदर गुलाटी, अमित दमानी, अर्चना प्रियदर्शनी आदि ने भी स्टार्टअप के इस सीड फंडिंग राउंड में भाग लिया।

कंपनी के अनुसार, प्राप्त की गई धनराशि का इस्तेमाल प्रोडक्ट डेवलपमेंट, प्लेटफॉर्म के तकनीकी ढांचे को मजबूत बनाने, टीम का विस्तार करने और नए बाजारों में प्रवेश करने की दिशा में किया जाएगा।

Driffle की शुरुआत साल 2021 में चेतन भारद्वाज (Chetan Bhardwaj), गौरव कुमार झा (Gaurav Kumar Jha), मयंक चावला (Mayank Chawla) और अभिषेक कुमार (Abhishek Kumar) ने मिलकर की थी।

Driffle

यह स्टार्टअप असल में अपने प्लेटफॉर्म के माध्यम से गेमर्स के लिए गेम, डिजिटल गिफ्ट कार्ड और गेमिंग पॉइंट बेचने का काम करता है।

आसान शब्दों में कहें तो यह एक डिजिटल गेमिंग मार्केटप्लेस है, जहां यूजर्स को ईमेल दर्ज करने और फिर अपनी पसंदीदा भुगतान विधि का चयन करके स्थानीय मुद्राओं में भुगतान करने के बाद, तुरंत ही गेम आदि वितरित (डिस्ट्रिब्यूट) कर दिया जाता है।

प्लेटफॉर्म का दावा है कि इसमें दुनिया भर के विक्रेताओं का एक बड़े वर्ग बेहद कम कमीशन और अधिक पारदर्शी शर्तों के साथ उपलब्ध है। साथ ही कंपनी भुगतान संबंधित धोखाधड़ी और सीमा पार वितरण की जटिलताओं को भी सफ़लतापूर्वक दूर करने का दावा करती है।

डेलावेयर और बेंगलुरु आधारित Driffle के मुताबिक, यह वर्तमान में दक्षिण पूर्व एशिया और यूरोप में फैले 100 से अधिक देशों में अपनी सेवाएँ प्रदान कर रही है और 100 से अधिक तरह की मुद्राओं को स्वीकार करती है।

निवेश को लेकर कंपनी के सह-संस्थापक और सीईओ, चेतन भारद्वाज ने कहा,

“गेमिंग के शौकीनों की एक टीम होने के नाते, हम इस सेगमेंट में उपलब्ध मार्केटप्लेस में मौजूदा कमियों को अच्छी तरह समझते हैं। साथ ही हम पेमेंट फ्रॉड और क्रॉस-बॉर्डर डिस्ट्रीब्यूशन की जटिलताओं को भी हल करते हुए आसान पेमेंट प्रक्रिया और प्रोडक्ट की डिजिटल डिलीवरी को सक्षम बनाने का काम कर रहे हैं।”