instagram-starts-new-age-verification-test-in-india

Instagram New Age Verification Test: टेक दिग्गज Meta के मालिकाना हक वाले लोकप्रिय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) ने भारत में अब उपयोगकर्ताओं की उम्र वेरिफाई करने का एक नया टेस्ट/तरीका पेश किया है।

असल में बच्चों द्वारा गलत जन्मतिथि का इस्तेमाल करके प्रोफाइल बनाने के बढ़ते मामलों को देखते हुए कंपनी अब प्रक्रिया को थोड़ा और सख्त करने जा रही है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

उम्र सत्यापित करने करने के लिए इस्तेमाल होने वाली ‘ऐज वेरिफिकेशन’ प्रक्रिया के तहत पेश किए गए इस नए टेस्ट में कंपनी अब भारत में उपयोगकर्ताओं को अपनी एक मूल आईडी की फोटों और सेल्फी वीडियो अपलोड करने के लिए कहेगी।

Use Instagram New Age Verification Test

मान लीजिए भारत में अब कोई Instagram पर नई प्रोफाइल बनाना चाहता है या फिर अपनी मौजूदा प्रोफाइल में उम्र को 18 साल या उससे अधिक में बदलने (एडिट) की कोशिश करता है तो अब कंपनी उसके सामने दो विकल्प पेश करेगी, जिनमें से किसी भी एक का इस्तेमाल करके वह अपनी उम्र सत्यापित कर सकेंगें।

इन विकल्पों में से पहले विकल्प के तहत, आप अपनी किसी आधिकारिक मूल आईडी (पहचान पत्र) की फोटो अपलोड कर सकते हैं या फिर दूसरे विकल्प के तहत एक सेल्फी वीडियो रिकॉर्ड करके उसको अपलोड कर सकते हैं।

instagram-starts-new-age-verification-test-in-india

इस नए अपडेट को लेकर कंपनी ने कहा;

“हम इसका परीक्षण कर रहे हैं ताकि हम यह सुनिश्चित कर सकें कि किशोर और वयस्क सही जानकारियों के जरिए ही प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करें और उचित अनुभव प्राप्त करें। हमनें इसकी शुरुआत इसी साल जून में अमेरिका में कर दी थी, और अब हम इसका विस्तार भारत और ब्राजील में कर रहे हैं।”

आपको बता दें कंपनी ने ये भी बताया है कि इस नए ऐज वेरिफिकेशन सिस्टम के लिए Yoti नामक कंपनी के साथ साझेदारी की गई है, जो ऑनलाइन उम्र को सत्यापित करने की विशेषज्ञता रखती है।

असल में Yoti के साथ इस साझेदारी के जरिए Instagram की ये कोशिश है कि लोगों की प्राइवेसी को लेकर भी उन्हें संतुष्ट किया जा सके, क्योंकि प्राइवेसी आज के समय में इंटरनेट की दुनिया का एक ‘हॉट टॉपिक’ बना हुआ है, जो जरूरी भी है।

वीडियो सेल्फी विकल्प के तहत वीडियो बनाने के लिए उपयोगकर्ताओं को ऐप की स्क्रीन पर दिखाए गए निर्देशों का पालन करना होगा। इसके बाद कैप्चर किए गए वीडियो को Yoti के साथ साझा किया जाएगा, जिसका सिस्टम सिर्फ चेहरे के आधार पर व्यक्ति की उम्र की पुष्टि करने में माहिर है।

कंपनी का कहना है कि एक बार पुष्टि करने के बाद वीडियो सेल्फी को Meta और Yoti दोनों के डेटाबेस से हटा दिया जाएगा।

वहीं दूसरे विकल्प के तौर पर आपको अपनी उम्र सत्यापित करने के लिए अपनी आईडी साझा करनी होगी।

वैसे एक तीसरा विकल्प भी था – “सोशल वाउचिंग” लेकिन इसको कंपनी अब इसमें कुछ सुधार करना चाहती है, और इसलिए तब तक के लिए इसे हटाया जा रहा है।