insurtech-startup-bimakavach-raises-rs-16-crore-funding

Startup Funding – BimaKavach: तेजी से बदलती इस इंटरनेट की दुनिया में इंश्योरेंस सेगमेंट भी उन चुनिंदा क्षेत्रों में गिना जा सकता है, जिसको नई तकनीक ने खास प्रभावित किया है। आज के दौर में कई सारे विकल्प होने के चलते अब लोग हों या बिजनेस सभी को अपनी-अपनी जरूरतों के हिसाब से इंश्योरेंस (बीमा) कवर चाहिए।

ऐसे में बीमा क्षेत्र में कुछ ऐसे टेक स्टार्टअप्स इस माँग को पूरा करते भी नजर आ रहे हैं, जिनमें से एक है BimaKavach (बीमाकवच) जिसने आज अपने सीड फंडिंग राउंड के तहत लगभग ₹16 करोड़ (~ $2 मिलियन) का निवेश हासिल किया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इंदौर आधारित BimaKavach के लिए इस निवेश दौर का नेतृत्व WaterBridge Ventures ने किया। साथ ही इसमें Blume Ventures, Arali Ventures और Eximius Ventures ने अभी अपनी भागीदारी दर्ज करवाई।

प्राप्त की गई इस धनराशि का इस्तेमाल यह स्टार्टअप बेहतरीन जोखिम प्रबंधन सॉफ़्टवेयर में, नए जमाने के कमर्शियल इंश्योरेंस को शामिल करने, अपनी टीम का विस्तार करने और संचालन को व्यापक बनाने के लिए करेगा।

BimaKavach की शुरुआत साल 2021 में तेजस जैन द्वारा की गई थी। इस कंपनी का उद्देश्य स्टार्टअप्स और छोटे-मध्यम-उद्यमों (SMEs) के लिए उनकी पसंद और जरूरत के मुताबिक ‘कस्टमाइज इंश्योरेंस कवरेज’ प्रदान करते हुए, व्यवसाय बीमा को सरल और पारदर्शी बनाना है।

BimaKavach

असल में इसका प्लेटफॉर्म व्यवसायों को ऑनलाइन बीमा खोजने, खरीदने और मैनेज करने की सहूलियत प्रदान करते हुए, इस प्रक्रिया को बेहद आसान बनाने के लिहाज से डिजाइन किया गया है।

इस स्टार्टअप ने व्यवसायों की बीमा संबंधित जरूरतों को समझने के लिए एक संक्षिप्त फॉर्म का एक प्रारूप भी तैयार किया है, जिससे इस प्रक्रिया में काफी समय की बचत हो जाती है।

हम कह सकते हैं कि फिलहाल भारत में स्टार्टअप्स और SMEs के लिए कमर्शियल इंश्योरेंस खरीदना आसान बनाने के लिए, यह कंपनी खुद को एक फुल-स्टैक मार्केटप्लेस के रूप में विकसित कर रही है।

दिलचस्प रूप से इसके मौजूदा ग्राहकों की सूची में CleverTap, CoinDCX, FinBox, Rama Phosphates जैसे कई दिग्गज नाम भी शुमार हैं।

इस निवेश को लेकर BimaKavach के संस्थापक तेजस जैन ने कहा;

“भारत में, लगभग 95% स्टार्टअप्स और SMEs बीमा योजनाओं से वंचित हैं। इसलिए हम बुनियादी रूप से कमर्शियल इंश्योरेंस ईकोसिस्टम को दुरुस्त करने का प्रयास कर रहे हैं।”

“इसके तहत हम बड़ी संख्या में व्यवसायों तक पहुंच हासिल करते हुए स्टार्टअप और SMEs के लिए बेहतरीन बीमा उत्पादों का निर्माण, वाणिज्यिक जोखिमों के जोखिम मूल्यांकन और मूल्य निर्धारण प्रक्रियाओं को स्वचालित करने जैसे तमाम काम कर रहे हैं।”