central-government-commits-rs-7385-crore-for-startup-funds

Central govt commits Rs 7385 Crore for startup fund: साल 2016 में स्टार्टअप इंडिया (Startup India) पहल के हिस्से के रूप में भारत सरकार ने देश में स्टार्टअप्स के लिए फंडिंग के अवसरों को बढ़ाने के मकसद से फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (Fund of Funds for Startups या FFS) नामक एक स्कीम शुरु की थी।

अब इसको लेकर सरकार के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने सोमवार को दी गई जानकारी में बताया कि फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS) स्कीम के तहत इस साल 24 सितंबर तक 88 वैकल्पिक निवेश फंड्स (AIFs) को ₹7,385 करोड़ देने का वादा किया गया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इन AIFs में निवेश की गई राशि लॉन्च के बाद से लगभग 21% की CAGR (चक्रवृद्धि वार्षिक वृद्धि दर) से बढ़ी है, और यह राशि वित्त वर्ष 2025 तक निवेश किए गए ₹10,000 करोड़ रुपये के लक्ष्य का लगभग तीन-चौथाई हिस्सा है।

Rs 7385 Crore for startup fund?

इन वैकल्पिक निवेश फंड्स (AIFs) में Chiratae Ventures, India Quotient, Blume Ventures, IvyCap, Waterbridge, Omnivore, Aavishkaar, JM Financial, Fireside Ventures समेत कई दिग्गज नाम शामिल हैं।

आँकड़ो पर ध्यान दें इन AIFs ने फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS) के तहत दी गई प्रतिबद्धता के बदले में बीते 6 सालो में लगभग 720 स्टार्टअप्स में ₹11,206 करोड़ का निवेश किया है।

याद दिला दें कि सरकार द्वारा ₹10,000 करोड़ के कोष के साथ FFS की घोषणा की गई थी। देश के वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (DPIIT) द्वारा बजटीय सहायता के जरिए 14वें (वित्त वर्ष 2016-2020) और 15वें (वित्त वर्ष 2021-2025) वित्त आयोग की समयावधि के दौरान कॉर्पस का निर्माण किया जाना है।

सरकार के मुताबिक, फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS) नामक यह पहल भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम में घरेलू पूंजी निवेश को प्रोत्साहित करने में प्रमुख भूमिका निभा रही है।

क्या है Fund of Funds for Startups स्कीम?

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (Fund of Funds for Startups या FFS) पहल के तहत SEBI पंजीकृत वैकल्पिक निवेश फंड्स (AIFs) को पूँजी समर्थन दिया जाता है, और वो बदले में भारतीय स्टार्टअप्स में निवेश करते हैं।

rbi-sets-up-working-group-to-regulate-digital-loan-apps

ये वैकल्पिक निवेश फंड्स (AIFs) न सिर्फ शुरुआती चरण के स्टार्टअप में बल्कि स्वदेशी स्टार्टअप्स के सीड फंडिंग राउंड व आगे के अन्य राउंड्स में भी भागीदारी करते हैं और स्टार्टअप्स को धनराशि उपलब्ध करवाते हैं। इसके जरिए भारतीय स्टार्टअप्स को घरेलू पूंजी जुटाने, विदेशी पूंजी पर निर्भरता कम करने में मदद मिलती है।

देखा जाए तो सामूहिक रूप से फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS) द्वारा समर्थित इन वैकल्पिक निवेश फंड्स (AIFs) का लक्ष्य भारतीय स्टार्टअप ईकोसिस्टम में ₹48,000 करोड़ से अधिक के निवेश का है।

दिलचस्प रूप से FFS के तहत समर्थन पाने वाले कई स्टार्टअप्स अपने मूल्यांकन (वैल्यूएशन) में 10 गुना से अधिक की वृद्धि दर्ज करते नजर आते हैं, और इनमें से कुछ ने यूनिकॉर्न ($1 बिलियन से अधिक की वैल्यूएशन) का दर्जा भी प्राप्त किया है।

फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS) के तहत वित्तीय निवेश हासिल करने वालों में Dunzo, CureFit, FreshToHome, Jumbotail, Unacademy, Uniphore, Vogo, Zostel, Zetwerk आदि नामी स्टार्टअप्स भी शुमार हैं।

गौर करने वाली बात ये भी है कि इस स्कीम के द्वारा अर्जित फंड का देश के स्टार्टअप ईकोसिस्टम में पुनर्निवेश किया जाएगा।