upgrad-acquires-exampur

upGrad acquires Exampur: भारत के एडटेक जगत बीतें कुछ सालों में काफी सुर्ख़ियो में रहा है, फिर चाहे वो कोई नए यूनिकॉर्न को लेकर हो या कोई बड़े अधिग्रहण को लेकर। ऐसा ही कुछ एक बार फिर से हुआ है।

जी हाँ! इस बार एडटेक यूनिकॉर्न upGrad ने नोएडा आधारित परीक्षाओं की तैयारी करवाने वाले लोकप्रिय प्लेटफॉर्म Exampur का अधिग्रहण कर लिया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

वैसे इस अधिग्रहण संबंधित शर्तों या पैसों को लेकर आधिकारिक रूप से किसी भी तरीके का खुलासा नहीं किया गया है।

दिलचस्प रूप से बीते 22 जुलाई को ही upGrad ने ₹300 करोड़ में ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म Harappa Education के अधिग्रहण का ऐलान किया था। इतना ही नहीं बल्कि upGrad की सहायक कंपनी, upGrad Rekrut ने इसके कुछ ही दिन पहले भर्ती और स्टाफिंग कंपनी, Wolves India का भी अधिग्रहण किया था।

upGrad acquires Exampur

गौर करने वाली बात ये है कि upGrad द्वारा अधिग्रहण का ये सिलसिला ऐसे वक्त में शुरू किया गया है, जब ईकोसिस्टम में फंडिंग की कमी के चलते कुछ दिग्गज एडटेक कंपनियाँ जैसे Unacademy, Vedantu आदि लागत में कटौती को लेकर तरह-तरह के कदम उठाते नजर आ रहे हैं।

upGrad acquires Exampur

बहरहाल! बात की जाए Exampur की तो इसकी शुरुआत साल 2018 में विवेक कुमार (Vivek Kumar) और वरदान गांधी (Vardan Gandhi) ने मिलकर की थी।

Exampur देश में UPSC, SSC, रक्षा, बैंकिंग, शिक्षण, राज्य स्तरीय प्रशासनिक परीक्षाओं समेत 200 से अधिक सरकारी नौकरियों से जुड़ी परीक्षाओं की तैयारी करवाने संबंधित कोर्स की पेशकश करता है।

इसके तहत अधिकांश कंटेंट कंपनी के 27 से अधिक YouTube चैनलों के जरिए ही वितरित किया जाता है। Exampur के पास लगभग 12 मिलियन सब्स्क्राइबर आधार है। कंपनी के अनुसार यह नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे हिंदी भाषी बाजारों में भी अग्रणी है, और इसके 90 प्रतिशत सशुल्क उपयोगकर्ता टियर-2, 3 और 4 क्षेत्रों से आते हैं।

इसके संस्थापकों के अनुसार Exampur ने अपनी डिजिटल उपस्थिति के चलते एक हाइब्रिड लर्निंग मॉडल को स्थापित करने में अहम रोल अदा किया है। कंपनी इस साल लगभग ₹70 करोड़ के राजस्व कमाई की उम्मीद कर रही है।

इस अधिग्रहण को लेकर, Exampur के संस्थापकों ने संयुक्त बयान में कहा;

“भारत में शिक्षित युवाओं की संख्या तेजी से बध रही है, लेकिन इसके बाद भी वे बेरोजगार हैं। इसलिए, हम चाहते हैं कि हमारे विद्यार्थी प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रैक करने की कला को समझते हुए सफलता हासिल कर सकें।”