train-ticket-booking-startup-trainman-raises-funding
Credit: Wikimedia Commons

Startup Funding – Trainman: गुरुग्राम आधारित ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुकिंग स्टार्टअप Trainman ने अपने सीड फंडिंग राउंड में $1 मिलियन ( लगभग ₹7.5 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

कंपनी को यह निवेश Goodwater Capital, Hem Angels व अन्य कुछ दिग्गज व्यक्तिगत निवेशकों से मिला है।

कंपनी का इरादा इस निवेश को अपने प्लेटफॉर्म को तकनीकी व उत्पाद के लिहाज से बेहतर बनाने का है। साथ ही कंपनी डेटा एनालिटिक्स आदि टूल्स का भी विस्तारित रूप से उपयोग करती नजर आएगी।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

दिलचस्प रूप से कंपनी आने वाले समय में अपने प्लेटफॉर्म पर फ्लाइट टिकट बुकिंग कैटेगॉरी को भी जोड़ने का मन बना रही है।

आपको बता दें Trainman की शुरुआत साल 2016 में IIT रुड़की के पूर्व छात्र रहे विनीत चिरानिया (Vineet Chirania) और करण कुमार (Karan Kumar) ने मिलकर की थी।

यह स्टार्टअप मुख्य रूप से ट्रेन टिकट बुक करने, पीएनआर (PNR) स्टेट्स चेक करने और बुकिंग से पहले कॉन्फ़र्मेशन संबंधित आँकलन जैसी सुविधाओं के लिए बतौर वन-स्टॉप सोल्यूशन की तरह काम करता है।

trainman

साथ ही प्लेटफ़ॉर्म पर आप किन्ही भी स्टेशनों के बीच चलने वाली ट्रेनों को सर्च कर सकते हैं और ट्रेन की क्लास के अनुसार टिकट बुक कर सकते हैं। साथ ही लोग़ ट्रेन शेड्यूल और चलने की स्थिति आदि के बारे में भी पूछताछ कर सकते हैं, और यकीनन ये सुविधाएँ यात्रियों को उनकी रेलवे यात्रा को प्लान करने में बेहद मददगार साबित होती है।

इस निवेश से पहले भी इस स्टार्टअप ने नवंबर 2021 में सीड फंडिंग राउंड के हिस्से के रूप में ही $250,000 (लगभग ₹2 करोड़) का निवेश प्राप्त किया था।

इस नए निवेश को लेकर कंपनी के सह-संस्थापक और सीईओ, विनीत ने कहा;

“Trainman ने ऑनलाइन ट्रेन टिकट बुकिंग को अधिक सरल और तेज बनाने के मकसद से तमाम नए और प्रभावी तकनीकी समाधानों को पेश किया है।”

“1 करोड़ से अधिक ऐप इंस्टॉलेशन के साथ, हम इस क्षेत्र में एक अग्रणी सेवा प्रदाता के रूप में उभर रहें हैं। कंपनी ट्रेन टिकट प्रक्रियाओं के लिए एक व्यापक बैक-एंड सिस्टम का इस्तेमाल करते हुए, इसे लागत प्रभावी बनाने का काम करती है।”

अब तक Trainman करीब 2.5 करोड़ से अधिक बुकिंग के साथ वार्षिक टिकट बिक्री में ₹100 करोड़ तक के राजस्व आँकड़े को भी छू चुका है।

कंपनी मौजूदा समय में शुद्ध लाभ की स्थिति में है और महामारी के बाद इसने काफी वृद्धि दर्ज की है। कंपनी के संस्थापकों को उम्मीद है कि आने वाले सालों में कई गुना वृद्धि देखने को मिल सकती है।