bgmi-tiktok-may-return-to-india-soon

TikTok Vs YouTube: इस बात में कोई शक नहीं है कि जब भी बात “वीडियो प्लेटफॉर्म” की होती है तो YouTube एक ऐसा ऐप है, जो लगभग सभी के मोबाइल में मौजूद होता है, और अधिकांश लोग प्रतिदिन वीडियो देखनें आदि के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। इसका मुख्य कारण यह भी है कि इस प्लेटफॉर्म पर फ्री में अधिकतर कंटेंट मौजूद होता है।

लेकिन बीते कुछ समय से शॉर्ट वीडियो जगत के दिग्गज टिकटॉक (TikTok) ने यूट्यूब (YouTube) की इस बादशाहत हो चुनौती देना शुरू कर दिया है। और अब तो TikTok कई मामलों में YouTube को पीछे भी छोड़ता जा रहा है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में TechCrunch की एक रिपोर्ट के अनुसार, इसकी शुरुआत जून 2020 से ही हो गई थी, जिस महीनें 4 से 18 वर्ष की उम्र के लोगों के बीच TikTok ने प्रतिदिन औसत मिनटों के मामले में YouTube को पहली बार पीछे छोड़ दिया था।

तब TikTok ने पर ये किशोर प्रतिदिन औसतन 82 मिनट बिता रहे थे, जबकि YouTube पर यही आँकड़ा प्रतिदिन औसतन 75 मिनट का था।

वर्तमान में क्या है स्थिति?

इस रिपोर्ट में नए आँकड़ो को लेकर आगे बताया गया है कि साल 2021 के अंत तक दुनिया भर में बच्चे और युवा (किशोर) दुनिया Google के मालिकाना हक वाले YouTube पर प्रतिदिन लगभग औसतन 56 मिनट बिता रहे हैं, जबकि चीन आधारित शॉर्ट-वीडियो प्लेटफॉर्म TikTok पर वे लोग हर रोज औसतन 91 मिनट तक वीडियो कंटेंट देख रहे हैं।

TikTok Vs YouTube

आपको बता दें यह नया डेटा बच्चों और युवाओं द्वारा टिकटॉक और यूट्यूब प्लेटफॉर्मों के उपयोग पर आधारित है, जिसे Qustodio (TechCrunch के लिए) द्वारा 400,000 परिवारों से प्राप्त विश्लेषण का उपयोग करके संकलित किया गया था। बताया गया है कि यह डेटा इन ऐप और वेबसाइटों के वास्तविक दुनिया के उपयोग को दर्शाता है, किसी अनुमान को नहीं।

नई पीढ़ी को पसंद आ रहें हैं शॉर्ट वीडियो प्लेटफ़ॉर्म ? 

हम सब देख रहें हैं कि तमाम शॉर्ट वीडियो प्लेटफॉर्म सबसे अधिक Gen Z (1990 के दशक के मध्य से 2010 के दशक की शुरुआत के बीच पैदा हुए) और Gen Alpha (2010 के दशक की शुरुआत और इसके मध्य पैदा हुए) आयुवर्ग को आकर्षित कर रहा है।

वैसे भारत में जहाँ एक तरफ चीनी सीमा विवाद के बीच TikTok को कुछ साल पहले ही बैन कर दिया गया था, वहीं इसके बड़े बाजार को देखते हुए, खुद YouTube Shorts, Instagram Reels जैसे तमाम विकल्प तेजी से उभरे और इन्होंने बच्चों और युवाओं के बीच फैली शॉर्ट वीडियो प्लेटफ़ॉर्म की लोकप्रियता को जारी रखा है।

आलम ये है कि YouTube Shorts ने अपने लॉन्च के दो साल से भी कम समय में 1.5 बिलियन लॉगिन मासिक उपयोगकर्ता आँकड़ा पार कर लिया है। वैसे इसमें बच्चों और युवाओं के अलावा भी सभी उम्र के लोग शामिल हैं।