rural-tech-startup-faarms-raises-rs-80-crore-in-funding

Startup Funding – FAARMS: बीते कुछ सालों में, भारत के ग्रामीण क्षेत्रों की मौजूदा संभावनाओं को देखते हुए, इस क्षेत्र में कार्यरत स्टार्टअप्स की संख्या में तेजी से विस्तार हुआ है। और इनमें से तमाम स्टार्टअप्स ग्राहकों के साथ ही साथ निवेशकों का भी ध्यान अपनी ओर खीचनें में सफल होते नजर आए हैं।

इसी कड़ी में अब ग्रामीण क्षेत्रों पर केंद्रित टेक स्टार्टअप FAARMS ने भी अपने हालिया निवेश दौर में $10 मिलियन (लगभग ₹80 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

कंपनी को यह निवेश Conny & Co. के संस्थापक – डॉ कॉर्नेलियस बोर्श (Dr Cornelius Boersch), सिंगापुर के निवेशक – कोह बून ह्वे (Koh Boon Hwee), Venture Catalysts और 9 Unicorns के सह-संस्थापक – अपूर्व रंजन शर्मा (Apoorva Ranjan Sharma) व अन्य से मिला है।

इस रुरल-टेक स्टार्टअप के अनुसार, प्राप्त की गई पूँजी का इस्तेमाल भारत भर के अन्य स्थानों पर विस्तार करने, सप्लाई व वितरण चैनलों को बढ़ाने, नई भर्तियाँ करने और तकनीकी बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए किया जाएगा।

FAARMS मुख्य रूप से ग्रामीण परिवारों के लिए एक एंड-टू-एंड समाधान की पेशकश करता है, जिसमें खेती के लिए इस्तेमाल होने वाले इनपुट की डोर-स्टेप डिलीवरी, सलाह, बीमा और बैंकिंग सेवाएं शमिल हैं।

दिलचस्प रूप से हाल में ही कंपनी ने Bharat BillPay के साथ साझेदारी भी की है, ताकि पूरे भारत में किसानों को पानी, गैस और बिजली बिल भुगतान, लोन या बीमा प्रीमियम भुगतान के साथ ही साथ खुद के स्वामित्व वाले लॉजिस्टिक्स नेटवर्क का इस्तेमाल करते हुए सुरक्षित उत्पाद जैसे कि बीज, पशुओं का चारा और कृषि उपकरणों के सीधे वितरण हेतु एक मार्केटप्लेस तैयार किया जा सके।

FAARMS Funding

इस निवेश को लेकर कंपनी के सह-संस्थापकों – तरणबीर सिंह (Taranbir Singh) और आलोक दुग्गल (Alok Duggal) ने कहा;

“हमारा लक्ष्य ग्रामीण परिवारों के आसान, लाभप्रद और प्रभावी सुविधाएँ प्रदान करने वाला एक डिजिटल प्लेटफॉर्म बनाने का है, जिससे उनकी आय और जीविका संबंधित मानकों में सुधार हो सके।”

“देश के कई राज्यों में स्थित करीब 200 से अधिक गांवों में किए गए हमारे हालिया अध्ययनों में क्वॉलिटी कृषि इनपुट का इस्तेमाल करके, आय में दोहरे-अंकों की वृद्धि दर्ज की है। इसी को आगे बढ़ाते हुए, हम अन्य तमाम हितधारकों के साथ मिलकर कृषि आय को दोगुना करने की दिशा में काम कर रहे हैं।”

आपको बता दें फिलहाल कंपनी देश के कुछ अहम कृषि केंद्रित राज्यों के 50,000 से अधिक गांवों में अपना संचालन कर रही है, और साल 2022 के अंत तक कंपनी का इरादा इस आँकड़े को 100,000 गांवों तक ले जानें का है।

इसके साथ ही कंपनी नए फंड का इस्तेमाल करते हुए यह स्टार्टअप अब देश भर के 12 राज्यों में अपनी उपस्थिति बढ़ाने की तैयारी कर रहा है।