edtech-startup-kreedo-raises-rs-18-crore-funding

Startup Funding – Kreedo: बीतें कुछ सालों से देश का एडटेक जगत तमाम संभावनाओं और निवेश के बीच व्यापक रूप लेता नजर आया है। इसी को जारी रखते हुए, अब भारतीय एडटेक स्टार्टअप Kreedo ने अपने  प्री-सीरीज-ए फंडिंग राउंड में $2.3 मिलियन (लगभग ₹18 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

कंपनी को यह निवेश UBS Optimus Foundation, Spectrum Impact, Gray Matters Capital, और 1Crowd के नेतृत्व में मिला है। साथ ही निवेश दौर में Innospark Ventures, IIM-CAN और The Chennai Angels ने भी भागीदारी दर्ज करवाई है। 

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

बेंगलुरु आधारित इस एडटेक कंपनी के अनुसार, प्राप्त की गई इस पूँजी का इस्तेमाल Kreedo के विकास की रफ्तार को बढ़ाने और इसको अगले स्तर पर ले जानें से संबंधित योजनाओं के लिए किया जाएगा। 

Kreedo की शुरुआत साल 2012 में मृदुला श्रीधर (Mridula Shridhar) और मणिकंदन कृष्णन (Manikandan Krishnan) ने मिलकर की थी। कंपनी मुख्य रूप से किफायती निजी स्कूलों और प्री-स्कूलों में ‘शुरुआती शिक्षा’ देने के तरीके में कुछ शानदार बदलाव लाने की दिशा में काम करती है।

असल में ये स्टार्टअप अपने ‘6T लर्निंग फ्रेमवर्क’ के तहत इन स्कूलों में बच्चों के सीखनें के अनुभवों में सुधार लाने के लिए Toys, Technology, Theory, Teacher Training, Timetable और Teamwork जैसी चीजों का इस्तेमाल करते हुए “प्ले बेस्ड लर्निंग” की सुविधा प्रदान करता है।

Kreedo

साथ ही कंपनी एक्टिविटी लैब की स्थापना से लेकर शिक्षकों को लगातार प्रशिक्षण देने संबंधित सेवाएँ भी प्रदान करती है, ताकि स्कूलों में लर्निंग प्रक्रिया को सशक्त बनाया जा सके।

अब तक कंपनी ने 400 से अधिक बजट निजी स्कूलों और 1500 से अधिक प्री-स्कूलों में अपने पाठ्यक्रम को लागू करके 2 लाख से अधिक बच्चों को सकारात्मक रूप से प्रभावित किया है।

इस निवेश को लेकर कंपनी की सीईओ, मृदुला श्रीधर ने कहा,

“हमारा मकसद गुणवत्तापूर्ण प्रारंभिक शिक्षा में कुछ बेहद अहम सुधार लाने का है। हमें अपने सहयोगी स्कूलों से बेहतरीन प्रतिक्रियाएं मिल रहीं हैं, जो असल में शिक्षा को बेहतर स्वरूप देने के लिए सबसे किफायती और सरल विकल्प की तलाश में हैं।”

उनके अनुसार, हासिल किए गए इस नए निवेश के ज़रिए कंपनी को भारत के अन्य कई शहरों में 7000 से अधिक स्कूलों तक पहुँच बनाने में मदद मिलेगी।

तमाम रिपोर्टों के अनुसार, भारत में 3,50,000 से अधिक बजट निजी स्कूल और प्री-स्कूल मौजूद हैं, जहाँ हर साल ₹30,000 से भी कम के शुल्क में कम आय वाले परिवारों के बच्चों को शिक्षा प्रदान की जाती है।

इनमें से अधिकांश स्कूलों में लर्निंग प्रक्रियाओं को अभी भी उतना बेहतर स्वरूप प्राप्त नहीं है, जिसकी मुख्य वजह शिक्षकों के लिए अच्छी ट्रेनिंग का अभाव या सीमित संसाधन हैं। ऐसे में Kreedo जैसे स्टार्टअप्स का प्रयास है कि इन स्कूलों में शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के लिए नए तरीक़ों का इस्तेमाल किया जाए।