retail-tech-startup-nutritap-raises-4-crore-lease-funding

भारतीय रिटेल-टेक स्टार्टअप, NutriTap Technologies ने लीज फाइनेंसिंग डील के तहत Grip Invest से ₹4 करोड़ का निवेश हासिल किया है।

आपको बता दें इस डील के तहत Grip Invest इस स्टार्टअप के रिटेल निवेशकों या कहें तो उपयोगकर्ताओं को मानव रहित 24×7 रिटेल स्टोर्स चलाने के लिए आवश्यक स्मार्ट रिटेल कियोस्क और अन्य मशीनों को लीज पर हासिल करते हुए, उन्हें इस रिटेल सेगमेंट में निवेश कर सकने का अवसर प्रदान करेगा।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

गुरुग्राम आधारित NutriTap की शुरुआत साल 2018 में आईआईटी खड़गपुर के पूर्व छात्र रहे राजेश कुमार (Rajesh Kumar) और प्रियांक तिवारी (Priyank Tewari) ने मिलकर की थी।

कंपनी मुख्य रूप से मानव रहित रिटेल संचालन के लिए डायरेक्ट-टू-कस्टमर (D2C) ब्रांडों को वैकल्पिक रिटेल चैनल की पेशकश करती है। इसके फुल-स्टैक रिटेल समाधानों में ‘स्मार्ट कियोस्क तकनीक’ और ‘सरल वितरण समाधान’ जैसी चीजें शामिल हैं।

खास बात यह है कि कंपनी ने इन कियोस्क के निर्माण के लिए जरूरी लगभग सभी तकनीकी पहलुओं का विकास ख़ुद किया है, इसलिए यह इनको इस्तेमाल आदि के लिहाज से पूरी तरह कस्टमाइज करने की क्षमता भी रखती है।

nutritap

इस सौदे पर बोलते हुए, कंपनी के सह-संस्थापक राजेश कुमार ने कहा,

“महामारी के बाद मानव रहित रिटेल सेगमेंट में संभावनाएँ तेजी से बढ़ी हैं। मशीन लीजिंग के लिए किया गया यह सौदा Grip Invest जैसे निवेशकों द्वारा हम पर किए जा रहे भरोसे को दर्शाता है।”

मौजूदा समय में NutriTap देश के टियर-I मेट्रो शहरों में 250 से अधिक स्मार्ट रिटेल कियोस्क का संचालन कर रहा है। और अब Grip Invest के साथ किए गए इस करार के बाद कंपनी इस साल के अंत तक 12 शहरों में विस्तार की योजना बना रही है।

कंपनी के अनुसार,  यह आने वाले 1 साल में भारत के टॉप मेट्रो शहरों में लगभग 800 स्थानों पर और आगामी 2 सालों में 2500 से अधिक स्थानों पर अपने स्मार्ट रिटेल सामाधन की पेशकश करने का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रही है।

वहीं Grip Invest के संस्थापक और सीईओ, निखिल अग्रवाल (Nikhil Aggarwal) ने कहा;

“विश्व स्तर पर इंटरैक्टिव कियोस्क द्वारा रिटेल बिक्री सेगमेंट में साल 2028 तक 14% के सीएजीआर से बढ़ते हुए $32 बिलियन के आँकड़े को छूने की उम्मीद है। भारत में शहरीकरण और बढ़ती युवा आबादी की मांग के चलते इसका बाजार पहले ही $7 बिलियन तक पहुँच गया है।”