agri-tech-startup-ecozen-raises-rs-54-crore-funding

Startup Funding – Ecozen: भारत भर में तेजी से अपना विस्तार करने से इरादे के साथ अब कृषि केंद्रित डीपटेक स्टार्टअप Ecozen ने सीरीज़-सी फंडिंग राउंड में ₹200 करोड़ जुटाने की दिशा में पहली किश्त के तौर पर ₹54 करोड़ का निवेश हासिल किया है।

कंपनी के लिए इस निवेश दौर के नेतृत्व Dare Ventures ने किया। साथ ही कुछ मौजूदा निवेशकों जैसे – Caspian और Hivos-Triodos ने इक्विटी फंडिंग के तहत भागीदारी दर्ज करवाई। वहीं Northern Arc, Samunnati आदि ने भी डेब्ट फंडिंग में भाग लिया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इस स्टार्टअप का कहना है कि प्राप्त किए गए इस निवेश का इस्तेमाल कंपनी भारत से बाहर अपना संचालन शुरू करने और प्रोडक्ट रेंज का विस्तार करने में करेगी।

पुणे आधारित Ecozen की शुरुआत साल 2010 में आईआईटी खड़गपुर के पूर्व छात्र रहे देवेंद्र गुप्ता (Devendra Gupta), प्रतीक सिंघल (Prateek Singhal) और विवेक पांडे (Vivek Pandey) ने मिलकर की थी।

फिलहाल कंपनी मुख्य रूप से कृषि क्षेत्र से सोलर तकनीक पर आधारित संबंधित सिंचाई (Ecotron) और कोल्ड स्टोरेज (Ecofrost) प्रोडक्ट्स की पेशकश करती है, जो किसानों को उपज बढ़ाने और अपनी उपज को लंबे समय तक स्टोर कर सकने में सक्षम बनातें हैं।

Ecozen

दिलचस्प रूप से यह स्टार्टअप किसानों को फसलों के स्वास्थ्य का दूर से विश्लेषण कर सकने और उससे जुड़े तमाम इन्सायट्स प्रदान करने के लिए डेटा एनालिटिक्स और इंटरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) जैसी तकनीकों से लैस प्लेटफॉर्म का भी उपयोग करता है।

इन सब प्रोडक्ट्स के साथ कंपनी 1 लाख से अधिक किसानों तक पहुंचकर उन्हें क्लीन एनर्जी के ज़रिए आय में सुधार के अवसर प्रदान करने का दावा करती है।

इस बीच, निवेश पर बोलते हुए कंपनी के सीईओ और सह-संस्थापक, देवेंद्र गुप्ता ने कहा;

“भारत के अलावा अन्य जगहों और कृषि क्षेत्र से परे विस्तार करते हुए, हम अपनी बाजार क्षमता को स्थिरता सुनिश्चित करते हुए, तेजी से कई गुना बढ़ा पाएंगे।”

वहीं Dare Ventures के डायरेक्टर और Coromandel International के मैनेजिंग डायरेक्टर, समीर गोयल (Sameer Goel) ने कहा;

“यह निवेश Dare Ventures और Coromandel द्वारा एग्रीटेक क्षेत्र में निवेश की शुरुआत है। Ecozen की मूल टेक्नोलॉजी कृषि क्षेत्र से परे अन्य क्षेत्रों को भी महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करने की क्षमता रखती है।”