msme-super-app-startup-hostbooks-raises-rs-23-crore-funding

Startup Funding Alert – HostBooks: बीते कुछ सालों में भारत का फिनटेक जगत ‘तेज विकास’ का गवाह रहा है। और अब इसी कड़ी में माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइज (MSMEs) केंद्रित फिनटेक स्टार्टअप, HostBooks ने भी अपने सीरीज-ए फंडिंग राउंड में $3 मिलियन (लगभग ₹23 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

दिलचस्प बात यह है कि कंपनी के लिए इस निवेश दौर के नेतृत्व खुद भारत की जानी-मानी फिनटेक दिग्गज फर्म  Razorpay ने किया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इस नई प्राप्त पूँजी का इस्तेमाल HostBooks अपने मौजूदा ‘प्रोडक्ट सूट’ में नई सुविधाओं को जोड़ने के साथ ही साथ एक डीप लर्निंग शिक्षण-आधारित बिजनेस इंटेलिजेंस सिस्टम और एआई आधारित पोस्टिंग व सिफारिश प्रणाली विकसित करने को लेकर करेगा।

इन सबके बीच इस स्टार्टअप का इरादा ऑर्डर प्रबंधन, नियो-बैंकिंग, अपडेटेड इन्वेंट्री और प्रोडक्ट मैनेजमेंट आदि को लेकर एआई-आधारित नए उत्पादों को लॉन्च करने का भी है।

असल में इसके जरिए HostBooks भारत में MSMEs की सभी व्यावसायिक और वित्त संचालन जरूरतों के लिए एक ‘वन-स्टॉप शॉप’ या कहें तो ‘सुपर-ऐप’ बनने के अपने लक्ष्य के और करीब आ जाएगा।

गुरुग्राम आधारित HostBooks की शुरुआत साल 2017 में कपिल राणा (Kapil Rana) द्वारा की गई थी, जिसके बाद शुरुआती चरण में ही बिस्वजीत मिश्रा (Biswajit Mishra) इससे जुड़ गए।

HostBooks

कंपनी एक क्लाउड-आधारित वित्तीय प्लेटफ़ॉर्म की पेशकश करती है, जो MSMEs को व्यवसाय की संपूर्ण वैल्यू चेन व अपनी व्यावसायिक प्रक्रियाओं को स्वचालित करने में सक्षम बनाते हुए, एक एंड-टू-एंड समाधान प्रदान करता है। इस लिस्ट में F&A, टैक्स, जीएसटी, e-Way Bills, ई-चालान, बैंकिंग, इंवेंटरी मैनेजमेंट, ऑर्डर मैनेजमेंट, बिलिंग और इनवॉयस, नकद और बैंक प्रबंधन और प्रोक्योरमेंट और पेरोल जैसी तमाम सेवाएँ शामिल हैं।

कंपनी ने अब तक अपने प्लेटफॉर्म पर 250,000 से अधिक व्यवसायों को जोड़ते हुए व्यवसाय संचालन की लागत को 70% तक कम करने में सफ़लता हासिल की है। अपनी तमाम सुविधाओं के साथ ही ये स्टार्टअप व्यवसायों को मुफ्त क्लाउड स्टोरेज के साथ एक इन-बिल्ट ई-डॉक्यूमेंट मैनेजमेंट सिस्टम भी प्रदान करता है।

इस निवेश के बारे में बोलते हुए कंपनी के संस्थापक, कपिल राणा ने कहा;

“हम एक एकीकृत एंड-टू-एंड बिजनेस मैनेजमेंट समाधान के साथ लेनदेन, बैंकिंग, लेखा और टैक्स आदि पर भी ध्यान केंद्रित करते हुए, पूरी व्यावसायिक प्रक्रिया को सरल और स्वचालित करने का काम कर रहे हैं।”

“हमारे प्लेटफ़ॉर्म के ज़रिए बिलिंग, अकाउंटिंग, इन्वेंट्री मैनेजमेंट, पेरोल, कंप्लायंस मैनेजमेंट, बैंकिंग और एडवांस बिजनेस रिपोर्टिंग जैसी सेवाओं की पूरी प्रक्रिया को स्वचालित, समझने में आसान, परेशानी मुक्त करते हुए, कुशल संचालन हासिल किया जा सकता है।”

वहीं सह-संस्थापक, बिस्वजीत मिश्रा ने अपने बयान में कहा;

“हम Razorpay के साथ भारत में व्यवसायों को वित्तीय सेवाओं हेतु सशक्त बनाने और उन्हें फलने-फूलने में मदद करने संबंधित एक समान-दृष्टिकोण साझा करते है। और यह निवेश इसी दिशा में एक काम है।”