myntra-m-express-delivery-under-48-hours

Myntra M-Express – Delivery under 48 hours: ये तो साफ़ है की आगामी समय ‘क्विक कॉमर्स’ और ‘सुपर-फ़ास्ट डिलीवरी’ जैसी सेवाओं का है, और ऐसे में कॉमर्स जगत के अधिकांश मौजूदा खिलाड़ी इस ओर ध्यान देते नज़र आ रहे हैं। पर अब इस लिस्ट में एक नया नाम शामिल हुआ है, जो है – फ़ैशन व ब्यूटी कॉमर्स दिग्गज़ Myntra का।

असल में Flipkart (जो अब ख़ुद Walmart के अधीन है) के मालिकाना हक वाली कंपनी Myntra ने अब 48 घंटे के अंदर फैशन व ब्यूटी प्रोडक्ट्स की डिलीवरी के लिए M-Express नामक सेवा लॉन्च की है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इस फैशन ई-कॉमर्स पोर्टल ने बताया कि Myntra M-Express नामक इस एक्सप्रेस डिलीवरी सेवा के ज़रिए, ग्राहकों को 24-48 घंटों के अंदर उनके ऑर्डर की डिलीवरी करने का प्रयास किया जाएगा।

यह कुछ वैसी ही सुविधा है, जिसकी पेशकश Amazon Prime और Flipkart Plus के नाम पर दोनों दिग्गज़ प्लेटफ़ॉर्म पहले से ही कर रहे हैं।

कंपनी के अनुसार इस सुविधा के तहत लगभग 300,000 प्रोडक्ट्स (30% के क़रीब) को देश भर के 1300 से अधिक पिनकोड में कवर करेगी। आगामी दिनों में कंपनी इसके तहत टियर 2 और 3 शहरों में भी इसका विस्तार करती नज़र आएगी।

e-commerce-platforms-record-rs-20000-crore-sales-in-first-4-days-of-festive-sale

ज़ाहिर है इस इंडस्ट्री के लिए ये एक गेम-चेंजर कदम साबित होगा। असल में फिलहाल कंपनी की ये सुविधा देश के महानगरीय शहरों के ग्राहकों के लिए उपलब्ध करवाई गई है।

इसको लेकर Myntra के सीईओ, नंदिता सिन्हा (Nandita Sinha) ने कहा;

“M-Express कंपनी के ग्राहकों को डिलीवरी की समयसीमा के आधार पर अपने उत्पादों को चुन सकने पर पूरा कंट्रोल प्रदान करता है, ताकि वो बेहतर ढंग से खरीद संबंधित निर्णय ले सकें”

“हमें विश्वास है कि ये M-Express सुविधा इस इंडस्ट्री में एक गेम-चेंजर साबित होगी तथा ग्राहकों के साथ हमारे रिश्ते को और मजबूत करते हुए, उनके लिए खुशी का अवसर लेकर आएगी। साथ ही इसके ज़रिए तमाम ब्रांडों व छोटे-मध्यम विक्रेताओं को भी तेज़ी से बढ़ने का मौक़ा मिलेगा।”

दिलचस्प रूप से इस फैशन ई-कॉमर्स प्लेटफ़ॉर्म ने कहा कि विक्रेताओं और ब्रांडों को इस कदम के तहत डिप्लॉयमेंट सेंटर्स की पेशकश की जाएगी।

ये इसलिए होगा जिससे ब्रांड अपने उत्पादों को एक ही वेयरहाउस में स्टोर करने से परहेज करते हुए लॉजिस्टिक क्षमताओं का बेहतर तौर पर लाभ उठाने में मदद कर सकें।

ब्रांड अगर अपने तमाम उत्पादों को छोटे छोटे खंडों में तमाम सेंटर्स में स्टोर करेंगें तो इससे ग्राहकों को उत्पादों की डिलीवरी करने में लगने वाले समय को कम किया जा सकेगा।