swiggy-acquires-dineout

Swiggy acquires Dineout: भारत के फूड-टेक क्षेत्र में प्रतिद्वंदिता तेज़ी से बढ़ती जा रही है, और यही वजह है कि तमाम मौजूदा खिलाड़ी भारी निवेशों व अधिग्रहण आदि के ज़रिए आगे बने रहने की होड़ में नज़र आ रहे हैं।

इसी कड़ी में अब ऑनलाइन फूड-डिलीवरी प्लेटफ़ॉर्म स्विगी (Swiggy) ने रेस्टोरेंट टेक और डाइनिंग आउट प्लेटफॉर्म डाइनआउट (Dineout) के अधिग्रहण का ऐलान किया है, जिसकी जानकारी ख़ुद कंपनी ने शुक्रवार को दी।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

Swiggy ने Dineout के इस अधिग्रहण के लिए, इस पर मालिकाना हक रखने वाले Time Internet के साथ एक निश्चित समझौता किया है।

वैसे Swiggy ने ये साफ़ किया है कि एक बार इस अधिग्रहण के पूरा होने के बाद, Dineout एक स्वतंत्र ऐप के रूप में काम करना जारी रखेगा, इसको Swiggy के मुख्य ऐप के साथ पूर्ण रूप से मर्ज करने का फ़िलहाल कोई इरादा नहीं है।

वैसे किसी भी पक्ष की ओर से इस सौदे की क़ीमत को लेकर कोई खुलासा नहीं किया गया है, लेकिन TechCrunch की एक रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से यह सामने आया है कि यह Swiggy ने Dineout का अधिग्रहण लगभग $200 मिलियन में ऑल-ईक्वटी डील के तहत किया है। यह डील संभावित रूप से आगामी महीनों में अंतिम रूप लेती नज़र आ सकती है।

Swiggy acquires Dineout: आइए आपको बताते हैं कि ये अधिग्रहण Swiggy और Dineout दोनों के लिए कैसे लाभदायक माना जा रहा है? 

असल में सौदे के पूरा होने के बाद Swiggy को अपने डाइनआउट विकल्प की पेशकशों को दोगुनी रफ़्तार देने का मौक़ा मिलेगा, जिसमें डाइनिंग आउट टेबल रिज़र्वेशन और इवेंट्स आदि शामिल हैं।

वहीं दूसरी ओर Dineout के रेस्टोरेंट भागीदारों को भी Swiggy के बड़े ग्राहक आधार तक पहुंच मिल सकेगी, जिसके ज़रिए वह अपने बिक्री और राजस्व के आँकड़ो में वृद्धि दर्ज कर सकते हैं।

आपको बता दें फ़िलहाल Swiggy के पास भारत के 520 से अधिक शहरों में 1,90,000 रेस्टोरेंट भागीदारों और स्टोर्स का नेटवर्क है।

swiggy-turns-decacorn-raises-700-mn--dollar-at-10-billion-dollar-valuation

इतना ही नहीं बल्कि क्विक कॉमर्स सेगमेंट में भी Swiggy अपने Instamart के ज़रिए लगभग 28 से अधिक शहरों में मौजूदगी दर्ज करवा चुका है।

यह इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि भारत में Swiggy के कट्टर प्रतिद्वंद्वी माने जाने वाला Zomato भी टेबल रिजर्वेशन प्लेटफॉर्म के रूप में शुरुआत की थी और आज भी इन सेवाओं की पेशकश करता है।

Dineout की शुरुआत साल 2012 में अंकित मेहरोत्रा (Ankit Mehrotra), निखिल बख्शी (Nikhil Bakshi), साहिल जैन (Sahil Jain) और विवेक कपूर (Vivek Kapoor) ने मिलकर की थी। साल 2014 में ही Times Internet ने इसका अधिग्रहण कर लिया था।

कंपनी अपने ग्राहकों को अपने-अपने क्षेत्रों में रेस्टोरेंट्स सर्च करने और 20 से अधिक शहरों में लगभग 50,000 रेस्टोरेंट्स के अपने नेटवर्क में टेबल रिजर्वेशन करवा सकने की सहूलियत देती है।

मौजूदा हालातों में कंपनी का महत्व और बढ़ जाता है क्योंकि यह ‘कॉन्टैक्टलेस डाइनिंग’ को लेकर भी अपने रेस्टोरेंट साझेदारों को तमाम समाधान प्रदान करती है।

इतना ही नहीं बल्कि Dineout Passport और Dineout Pay आदि का इस्तेमाल कर ग्राहक चुनिंदा रेस्टोरेंट्स में छूट और विशेष ऑफ़र हासिल कर पाते हैं।

इस सौदे को लेकर Swiggy के सह-संस्थापक और सीईओ, श्रीहर्ष मजेटी (Sriharsha Majety) ने कहा;

“Dineout ग्राहकों और रेस्टोरेंट्स, दोनों मोर्चों पर एक बेहद पसंदीदा ब्रांड है। इसकी टीम ने इस क्षेत्र में कई अहम और क्रांतिकारी परिवर्तन लाने में योगदान दिया है।”