electric-mobility-startup-moeving-raises-rs-38-cr-funding

Electric mobility startup MoEVing raises fresh funding: दुनिया भर में तेज़ी से इलेक्ट्रिक वाहनों की रूझान बढ़ रहा है। ऐसे में भारत भी इससे अछूता नज़र नहीं आता है। देश के सभी संभावित क्षेत्रों में पारंपरिक वाहनों के विकल्प के तौर पर इलेक्ट्रिक वाहनों ने अपनी जगह बनानी शुरू कर दी है।

और इसी दिशा में काम करने वाले इलेक्ट्रिक मोबिलिटी स्टार्टअप MoEVing ने भी अपने सीड फ़ंडिंग राउंड में अतिरिक्त रूप से $5 मिलियन (लगभग ₹38 करोड़) का निवेश (इक्विटी और डेब्ट के रूप में) हासिल किया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

यह नया निवेश कंपनी को यूएई आधारित निवेशक BeyondTeq, Strides One, TradeCred, N+1 Capital आदि समेत कुछ अन्य व्यक्तिगत निवेशकों से मिला है।

आपको याद दिला दें कि गुरुग्राम आधारित इस स्टार्टअप ने इसके पहले दिसंबर 2021 में अपने सीड निवेश दौर के तहत $5 मिलियन हासिल किए थे।

कंपनी के मुताबिक़ वह प्राप्त की गई इस नई पूँजी का इस्तेमाल अपने टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म को और बेहतर बनाने तथा 30 से अधिक शहरों में अपने नेटवर्क का विस्तार करने के लिए करेगी।

MoEVing की शुरुआत विकाश मिश्रा (Vikash Mishra) और मृगांक जैन (Mragank Jain) द्वारा साल 2021 में की गई थी। यह कंपनी मुख्य रूप से ई-लॉजिस्टिक्स जगत को और व्यापाक तथा बेहतर स्वरूप बनाने के मक़सद के साथ आगे बढ़ रही है।

इसके तहत कंपनी कंपनी ई-कॉमर्स, ई-किराना, FMCG (फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स), लॉजिस्टिक्स और D2C (डायरेक्ट-टू-कंज्यूमर) कंपनियों को उनकी लॉजिस्टिक्स लागतों को कम करने तथा कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लक्ष्यों को पूरा करने हेतु समाधान प्रदान करती है।

इसके साथ ही MoEVing इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने के रास्ते में आने वाली विभिन्न बाधाओं को दूर करने में मदद करने के लिए OEMs (ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर), ड्राइवर/मालिकों और वित्तीय संस्थानों के साथ भी साझेदारी करते हुए इस दिशा में काम करती है।

MoEVing

कंपनी की मानें तो यह फ़िलहाल भारत के 9 राज्यों के लगभग 14 शहरों में 1,000 से अधिक इलेक्ट्रिक वाहनों का संचालन कर रही है। इसके वाहनों के बेड़े में मुख्य रूप से दोपहिया और तिपहिया वाहन शामिल हैं।

हाल में मिले निवेशों का इस्तेमाल कंपनी अपने बेड़े की संख्या को 10,000 इलेक्ट्रिक वाहनों तक ले जाने और इस बेड़े में चार पहिया वाहनों को शामिल करने में भी करेगी।

दिलचस्प रूप से यह स्टार्टअप आगामी साल 2023 तक देस के कुछ नए शहरों में 100 से अधिक चार्जिंग हब बनाने की दिशम में भी काम करता नज़र आएगा।

इस बीच Stride One के सह-संस्थापक, अभिनव सूरी (Abhinav Suri) ने कहा;

“भारत में सरकार के बढ़ते प्रयासों के चलतरे ‘इलेक्ट्रिक मोबिलिटी’ जगत में तेज़ी देखनें को मिल रही है। और इसके चलते सबसे पहले छोटी दूरियों के लिए इंट्रा-सिटी लॉजिस्टिक्स क्षेत्रों में ई-वाहनों का प्रचलन बढ़ा है। ऐसे में MoEVing इस क्षेत्र से संबंधित बेहतरीन समाधानों की पेशकश करते हुए इंट्रा-सिटी लास्ट माइल लॉजिस्टिक्स को फिर से परिभाषित कर रहा है।”