telegram-premium-beta-version

Telegram Premium: इस बात में कोई शक नहीं है कि बीते सालों में WhatsApp प्राइवेसी विवाद के बाद से ही Telegram मैसेजिंग ऐप दुनिया भर के साथ ही भारत में भी तेज़ी से लोकप्रिय होता नज़र आया है।

आज के समय में भारत में अधिकांश इंटरनेट उपयोगकर्ता, Telegram से अच्छी तरह परिचित हैं। अपनी बढ़ती लोकप्रियता के साथ ही कंपनी ने साल 2020 में प्लेटफ़ॉर्म के ज़रिए राजस्व कमाने की संभावनाओं का ज़िक्र किया था। और अब कंपनी इस दिशा में एक क़दम और आगे बढ़ती नज़र आ रही है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

जी हाँ! अपने लोकप्रिय मैसेजिंग प्लेटफॉर्म के ज़रिए राजस्व कमाने के इरादे से अब Telegram ने उपयोगकर्ताओं के लिए विशेष सुविधाओं के साथ एक सब्स्क्रिप्शन सेवा से पर्दा उठाया है।

असल में हम बात कर रहें हैं Telegram के लेटेस्ट iOS Beta ऐप वर्जन के बारे में, जिसको कंपनी ने कुछ ही दिनों पहले पेश किया है।

Telegram Beta Channel की मानें तो Telegram ने 8.7.2 iOS Beta वर्जन में कुछ प्रीमियम स्टिकर और स्पेशल रिएक्शन को जोड़ा है, और इनको Telegram Premium के तहत चिन्हित किया गया है।

यह भी सामने आया है कि ये प्रीमियम स्टिकर और स्पेशल रिएक्शन ऐप के फ़्री वर्जन का इस्तेमाल करने वाले उपयोगकर्ताओं को दिखाई नहीं देगें। ये एक बैनर के पीछे छिपे नज़र आते हैं, जिस पर लिखा है;

 “Unlock additional reactions and premium stickers”

ज़ाहिर है इन ख़ास स्टिकर और रिएक्शन को हासिल करने के लिए यूज़र को इस बैनर पर क्लिक करके साइन-अप करना होगा।

वैसे साफ़ कर दें कि अब तक Telegram Premium सब्स्क्रिप्शन प्लान की क़ीमतों या उपलब्धता को लेकर कोई ख़ास जानकारी सामने नहीं आ सकी है।

Android Police की एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रीमियम स्टिकर और रिएक्शन पर नज़र डाले तो इस लिस्ट में ‘Crying Duck’ स्टिकर, Clown व Thumbs Down जैसे रिएक्शन आदि चीजें शामिल हैं।

indian-govt-opens-fact-checking-account-on-telegram-to-fight-fake-news

पर इतना ज़रूर साफ़ होता नज़र आ रहा है कि Telegram Premium नामक ये सुविधा सबसे पहले iOS यूज़र्स के लिए पेश की जा सकती है और उसके बाद ही यह Android में अपनी जगह बनाती नज़र आएगी।

आपको बता दें इसके पहले भी Telegram ने राजस्व कमाने के प्रयासों के तहत विज्ञापन और साल 2021 में Groups Channels के लिए कुछ विशेष सुविधाएँ पेश की थीं।

ज़ाहिर है सोशल मीडिया दिग्गज़ को अब अन्य प्रतिद्वंदियों से मुक़ाबला करने के लिए पैसों की ज़रूरत है, और यही वजह है कि यह अपनी लोकप्रियता को राजस्व के रूप में भुनाने की कोशिशें कर रहा है।