after-zomato-ola-starts-10-minute-food-delivery

After Zomato, Ola Starts 10-Minute Food Delivery: बीते कुछ समय में ‘ऑनलाइन डिलीवरी’ सेगमेंट में एक नया ट्रेंड देखने को मिल रहा है, जो है ‘क्विक-कॉमर्स’ या कहें तो कम से कम समय में डिलीवरी करने से संबंधित।

हमनें देखा कि कैसे हाल ही में फ़ूड डिलीवरी दिग्गज़ Zomato ने 10-मिनट डिलीवरी की सुविधा, Zomato Instant पेश की और लोगों की इसको लेकर मिली-जूली प्रतिक्रिया देखने को मिली।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

और अब इस लिस्ट में Ola भी शामिल हो गया है। जी हाँ! Ola ने अपनी क्विक-कॉमर्स किराना डिलीवरी शाखा Ola Dash के तहत बेंगलुरु के कुछ हिस्सों में चुनिंदा फ़ूड आइटम्स की 10 मिनट के भीतर डिलीवरी सुविधा पेश की है।

आप शायद सोच रहें हों की Ola के इस चुनिंद मेनू आइटम में क्या क्या शामिल है? तो आपको बता दें इसमें खिचड़ी, पिज्जा और रोल्स आदि जैसे “ताज़ा तौर पर तैयार” कैटेगॉरी के आइटम शामिल हैं।

सबसे दिलचस्प बात ये है कि ET की एक रिपोर्ट के मुताबिक़,  Ola इस क्विक डिलीवरी प्लान को सफ़ल बनाने के लिए फूड रोबोटिक्स स्टार्टअप Mukunda Foods की फ़ैसिलिटी का इस्तेमाल करेगी। बता दें Mukunda Foods में हाल ही में Zomato ने $5 मिलियन का निवेश करके 16.66% हिस्सेदारी ख़रीदी थी।

Mukunda Foods के पास टॉप क्लाउड किचन के साथ-साथ स्टैंडअलोन रेस्तराँ आदि की सुविधा भी है, और Zomato के 10 मिनट डिलीवरी प्लान, Zomato Instant को इसका सीधा फ़ायदा मिलने की उम्मीद है।

वैसे ख़बरें ये भी है कि फ़ूड डिलीवरी सेगमेंट में Zomato का सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी Swiggy भी अब तेज डिलीवरी को लेकर संभावनाएँ तलाश रहा है, पर क्या ये 10-मिनट डिलीवरी जैसा कुछ होगा या नहीं? ये अभी स्पष्ट नहीं है।

ola-dash-to-deliver-groceries
Ola Starts 10-Minute Food Delivery

ग़ौर करने वाली बात ये है कि क्विक कॉमर्स डिलीवरी Swiggy और Ola के लिए कोई नई नहीं है। इन दोनों कंपनियों ने साल 2015-16 में पहली बार क्विक कॉमर्स सेगमेंट में आए उछाल के दौरान भी इसमें हाथ आज़माए थे।

पर देखने वाली बात ये होगी कि क्या ये ट्रेंड उन सवालों के जवाब भी दे सकेगा, जो Zomato के ऐलान के वक़्त लोगों ने उठाए थे – जैसे क्या तेज डिलीवरी के चलते सड़कों पर डिलीवरी पार्टनर्स पर दबाव आएगा?

वैसे Zomato के सीईओ दीपिंदर गोयल ने ये पहले ही साफ़ कर दिया था कि कंपनी इस नई शुरुआत के तहत अपने डिलीवरी पार्टनर्स पर बिल्कुल भी दबाव नहीं डालेगी, और ना ही उन्हें देर से डिलीवरी के लिए किसी भी प्रकार से दंडित किया जाएगा।