edtech-startup-saarthi-pedagogy-raises-rs-16-crore-in-funding

Edtech startup ‘Saarthi Pedagogy’ raises Rs 16 crore in funding: देश में बीते कुछ समय से (ख़ासकर महामारी के चलते लगे लॉकडाउन के बाद से) एडटेक स्टार्टअप्स व्यापाक वृद्धि दर्ज करते नज़र आ रहें हैं।

और इसी कड़ी में अब अहमदाबाद आधारित एडटेक स्टार्टअप Saarthi Pedagogy ने नए फ़ंडिंग राउंड में ₹16 करोड़ हासिल किए हैं। कंपनी के लिए इस दौर का नेतृत्व Pinnacle Investments ने किया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

कंपनी के मुताबिक़, प्राप्त की गई इस नई पूँजी का इस्तेमाल उत्पादों को बेहतर बनाने, तकनीकी टीम को व्यापाक बनाने, और सेल्स आदि क्षेत्रों को लेकर किया जाएगा।

बता दें Saarthi Pedagogy की शुरुआत सुशील अग्रवाल (Sushil Agrawal) ने की थी। यह असल में एक बी-टू-बी एडटेक कंपनी है,जो कक्षा 12 तक के सभी वर्गों के लिए एक तकनीकी प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करती है।

Saarthi Pedagogy
Saarthi Pedagogy

ये असल में अध्यापन या शिक्षण विधियों में सुधार के लिए कुछ बेहतरीन उत्पादों, टीचर ट्रेनिंग प्रोग्राम की पेशकश करती है। साथ ही कंपनी भारत के कई स्कूलों के लिए एक अकादमिक विकास भागीदार के रूप में भी जुड़ी है।

इस नए निवेश को लेकर Saarthi Pedagogy के संस्थापक सुशील अग्रवाल ने कहा;

“हम एक स्थायी और पूंजी-कुशल एड-टेक बिज़नेस बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, जो भारत में किफायती स्कूलों में पढ़ने वाले लाखों छात्रों के जीवन को वास्तव में प्रभावित कर सके और बेहतर बना सके।”

कंपनी के मुताबिक़ इसने बीते कुछ समय से काफ़ी अहम सफलता दर्ज करते हुए, अब तक क़रीब 850 स्कूलों और 85,000 छात्रों को अपनी सेवाएं प्रदान की हैं। कंपनी ने शैक्षणिक वर्ष 2021-22 में लगभग 220 स्कूलों को सेवाएं प्रदान की हैं।

इस स्टार्टअप को उम्मीद है कि शैक्षणिक वर्ष 2022-23 में यह इस आँकड़े को 2,000 स्कूलों और 2,00,000 छात्रों तक विस्तारित कर सकेगा।

बता दें Saarthi Pedagogy ने इसके पहले अगस्त 2021 में JITO Angel Network, LetsVenture, Ecosystem Ventures और अन्य निवेशकों से अपने पहले सीड राउंड में लगभग ₹7 करोड़ का निवेश हासिल किया था।

Pinnacle Investments की ओर से वेंकट के नारायण (Venkat K Narayana) ने कहा;

“एजुकेशन सेगमेंट में तकनीक की माँग तेज़ी से बढ़ गई है और आने वाले सालों में ये और भी बढ़ती नज़र आएगी। मैं शिक्षा के प्रति बहुत भावुक हूं और बच्चों के जीवन को बदलने की इसकी क्षमता में दृढ़ विश्वास रखता हूं।”