funding-news-agritech-startup-agrowave-raises-rs-15-cr
Image Credit: Agrowave

हाल के कुछ वर्षों में भारत एग्रीटेक स्टार्टअप की तेज बढ़त का गवाह रहा है। और इसी में एक नया उदाहरण जोड़ते हुए अब Agrowave ने शुक्रवार को जानकारी दी कि कंपनी ने $2 मिलियन (लगभग ₹15 करोड़) का निवेश जुटाया है।

गुरुग्राम आधारित इस कंपनी को ये निवेश OYO के संस्थापक रितेश अग्रवाल के फ़ैमिली ऑफ़िस, Aroa Ventures द्वारा प्राप्त हुआ है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

कंपनी के मुताबिक़ ये ₹100 करोड़ से अधिक के मासिक सकल व्यापारिक मूल्य (GMV) को प्राप्त करने के मक़सद से टीम का विस्तार करने और संचालन को बढ़ाने के लिए इस नई पूँजी का इस्तेमाल करेगी।

इतना ही नहीं बल्कि कंपनी अपने मौजूदा 3,000 मोबाइल पिकअप स्टेशनों के साथ मोबाइल पिकअप स्टेशनों के नेटवर्क संबंधित फ़र्स्ट-मील लॉजिस्टिक्स को और बेहतर बनाने की दिशा में भी निवेश करना चाहती है।

Agrowave की शुरुआत साल 2017 में अनु मीणा (Anu Meena) द्वारा की गई थी। ये स्टार्टअप किसानों को अपनी उपज को अपने दरवाज़े से ही बेहतर दरों पर बेचने की सुविधा प्रदान करत है।

Agrowave
Image Credit: Agrowave

ये किसानों से सीधे खरीद के अपने मक़सद के तहत 40,000 से अधिक मोबाइल पिकअप स्टेशन बनाने की कोशिश कर रहा है।

फार्म-टू-मंडी मार्केटप्लेस मॉडल के साथ कंपनी का दावा है कि इसने दिसंबर 2021 में 150 से अधिक गांवों में संचालन करते हुए लगभग ₹15 करोड़ का सकल व्यापारिक मूल्य (GMV) और 8000 टन की मात्रा दर्ज की है।

Agrowave की संस्थापक, अनु मीणा ने कहा,

“कंपनी ऐसा समाधान तैयार कर रही है जो किसानों को अपने फार्म-गेट से ही सिर्फ़ कुछ क्लिक के ज़रिए उपज बेचने की सहूलियत परदन करे।”

“प्राप्त किए गए इस नए निवेश के ज़रिए हम किसानों के अपने नेटवर्क का और विस्तार करेंगे, साथ ही इस बाज़ार को अधिक पारदर्शी बनाते हुए किसानों की आजीविका पर सकारात्मक प्रभाव डालने की कोशिश करेंगें।”

बता दें कंपनी ने पहले ही दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में अपना संचालन शुरू कर रखा है और अब ये तेज़ी से अन्य भौगोलिक क्षेत्रों में भी अपनी उपस्थिति को बढ़ाती नज़र आएगी।

कंपनी का इरादा दूर-दराज के और भीतरी इलाकों में विस्तार करने का है, जहां यह कई कुशल किसानों के साथ काम करते हुए, उन्हें तमाम सुविधाओं से लैस करना चाहती है।