funding-news-agritech-startup-pepper-farms-raises-rs-7-3-cr

Pepper Farms – Startup funding news: बीते कुछ सालों में निवेशकों का विश्वास देश के एग्रीटेक जगत में बढ़ा है और अब इसका एक ताज़ा उदाहरण भी सामने आया है। गुरुग्राम आधारित एग्रीटेक स्टार्टअप Pepper Farms ने अब सीड फ़ंडिंग राउंड में $1 मिलियन (लगभग ₹7.39 करोड़) का निवेश हासिल किया है।

कंपनी के अनुसार इस निवेश दौर के नेतृत्व Axilor Ventures और Aspiring Minds के सह-संस्थापक हिमांशु अग्रवाल ने किया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

इनके साथ ही इस निवेश दौर में तरुण खन्ना (हार्वर्ड बिजनेस स्कूल), रमन उबेरॉय (CRISIL के पूर्व सीओओ), सुनील कालरा (Via Projects), राहुल जैन (Epigamia के सह-संस्थापक) भी शामिल रहे।

कंपनी के मुताबिक़ वह इस नई पूँजी का इस्तेमाल अपने कारोबार को और तेज़ी से बढ़ाने के लिए करेगी। कंपनी का मक़सद उन्नत तकनीकों और और कृषि विज्ञान के ज़रिए अपने संचालन को मजबूत करने का भी है।

पर आपने मन में शायद सवाल हो कि ये स्टार्टअप कौन सी सुविधाएँ प्रदान करता है? असल में Pepper Farms किसानों को सब्जी उत्पादन की प्रक्रिया में ‘पौधे लगाने’ से लेकर फसल को उगाने और बिक्री तक के चरण में तमाम सेवाओं की पेशकश करता है।

कंपनी एंड-टू-एंड वर्चुअल मैनेजमेंट, कस्टमाइज्ड एग्रोनॉमी और डायरेक्ट मार्केट लिंकेज के ज़रिए फार्मों का नेटवर्क बनाकर सब्जी उत्पादन प्रक्रिया को सुचारु रूप देने का काम कर रही है।

कंपनी की माने तो ये अपनी मजबूत सप्लाई चेन के ज़रिए रोजाना मंडियों, ई-रिटेल, आधुनिक खुदरा और रेस्तरां में उपजे उत्पादों को बेचता है।

Pepper Farms
Credit: Pepper Farms

Pepper Farms की शुरुआत IIT गुवाहाटी के पूर्व छात्र सौरभ सिंगला (Saurabh Singla) और SRCC के पूर्व छात्रा व चार्टर्ड अकाउंटेंट, शालिनी अग्रवाल (Shalini Aggarwal) ने मिलकर की थी।

कंपनी सीधे खेत मालिकों, किसानों और सब्जी उत्पादन की मूल्य चेन में शामिल अन्य लोगों के साथ काम करती है। फ़िलहाल ये पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश सहित देश के टॉप कृषि क्षेत्रों में अपना संचालन करते हुए दर्जनों खेतों को मैनेज करने का काम कर रही है।

Pepper Farms के सह-संस्थापक और सीईओ सौरभ सिंगला के बयान के अनुसार;

“भारत में संरक्षित खेतों के सबसे तेजी से बढ़ते नेटवर्क के रूप में उभरते हुए हमारा मक़सद आने वाले 12 महीनों में Pepper Farms के तहत और 1,000 एकड़ के उत्पादन को शामिल करने का है।”

वहीं कंपनी की सह-संस्थापक और सीओओ, शालिनी अग्रवाल ने कहा;

“हमारी सोच कृषि तंत्र में को प्रभावित करने वाली अक्षमताओं को कम करने करने की है। छोटे और खंडित खेतों के साथ भी हम जनता के लिए गुणवत्तापूर्ण उत्पादन सुनिश्चित करते हुए सैकड़ों किसानों और इस क्षेत्र से जुड़े अन्य लोगों और अधिक सक्षम बना रहे हैं।”