indian-ministers-invite-musk-to-their-states-to-set-up-tesla-factory
Credits: Wikimedia Commons

Starlink India to initiate ‘Refund’ & ‘Sanjay Bhargava’ resigned: भारत में अभी एलोन मस्क (Elon Musk) की कंपनी स्पेसएक्स (SpaceX) की सहायक फ़र्म स्टारलिंक इंडिया (Starlink India) ने अपनी सेवाओं की औपचारिक शुरुआत तक नहीं करी कि उसके पहले ही इसको कई बड़े झटकों का सामना करना पड़ रहा है।

भारत में सैटेलाइट ब्रॉडबैंड इंटरनेट सेवाओं की पेशकश करने के इरादे से आई Starlink India को सबसे पहला झटका तो ये लगा है कि कंपनी को अब भारतीय ग्राहकों के मिले प्री-ऑर्डर के पैसे रिफ़ंड करने पड़ रहें हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

जी हाँ! अपनी आगामी सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं के लिए भारत में अब तक क़रीब 5000 प्री-ऑर्डर पा चुकी Starlink India अब सबके पैसे वापस कर रही है। लेकिन क्यों?

सबसे पहले तो बता दें अपनी सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस के लिए कंपनी $99 (क़रीब ₹7,400) के साथ प्री-बुकिंग ले रही कर रही थी।

कंपनी के मुताबिक़ ये पैसा उन Starlink उपकरणों (Kits) को यूज़र्स के पते पर इंस्टॉल करने के लिए लिया जा रहा है, जिनकी मदद से वह इसकी इंटरनेट सेवा का लाभ उठा सकेंगें।

पर अब अचानक कंपनी द्वारा पैसे वापस करना? असल में जैसा हमनें आपको अपनी पिछली रिपोर्ट में बताया था कि भारत सरकार की लोगों से अपील करी थी कि कोई भी Starlink को सब्स्क्राइब ना करें, मतलब प्री-ऑर्डर ना दे।

इसके पीछे की वजह ये थी कि SpaceX की सैटेलाइट ब्रॉडबैंड इकाई Starlink Internet Services को भारत में सैटेलाइट-आधारित इंटरनेट सेवाओं की पेशकश करने संबंधित उचित लाइसेंस प्राप्त नहीं है और सरकार ने इसको ग़ैर-क़ानूनी बताते हुए इस पर रोक लगा दी है।

Gadgets 360 की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ कंपनी प्री-ऑर्डर कर चुके ग्राहकों को अब ई-मेल कर ज़रिए इस बात की जानकारी दे रही है कि भारत के दूरसंचार विभाग (DoT) के निर्देशों के अनुसार कंपनी ने उनके प्री-ऑर्डर के पैसे रिफ़ंड करना (लौटाना) शुरू कर दिया है।

Starlink India ने प्री-बुकिंग करने वाले ग्राहकों को भेजे ई-मेल में ये भी कहा है;

“भारत सरकार की ओर से देश में अपनी सेवा शुरू करने के लिए लाइसेंस कब तक मिलेगा, इसकी फिलहाल कोई तारीख तय नहीं है। लाइसेंस के अलावा भी कई तरह की दिक्कतें आ रही हैं, पर उन्हें लाइसेंस मिलने के बाद दूर किया जा सकता है।”

अगर आपने भी Starlink India की आगामी सेवाओं के लिए प्री-ऑर्डर किया था और आपको अपना रिफ़ंड चाहिए तो आप कुछ इस तरीक़े से पैसे प्राप्त कर सकतें हैं;

  • सबसे पहले अपने Starlink अकाउंट पर Log-in करें
  • वहाँ आपको “Cancel and Request Refund’ का विकल्प दिखेगा, उस पर क्लिक करें
  • इसके बाद आपका रिफ़ंड प्रॉसेस शुरू हो जाएगा और अधिकतम 10 दिनों में आपके पैसे संबंधित अकाउंट में वापस मिल जाएँगें।

spacex-starlink-jobs-in-india-eligibility-and-other-details

वैसे तो दिसंबर 2021 में Starlink India के डायरेक्टर रहे, संजय भार्गव (Sanjay Bhargava) ने कहा था कि कंपनी 31 दिसंबर 2021 से पहले कमर्शियल लाइसेंस के लिए अप्लाई करेगी। साथ ही उन्होंने संभावना जताई थी कि 2022 के अंत तक भारत में 2,00,000 स्टारलिंक डिवाइस इंस्टॉल किए जा चुके होंगें।

लेकिन सब कुछ ठीक इसलिए भी नहीं लगता क्योंकि Starlink India की मुश्किलें यही ख़त्म नहीं हुई हैं। कंपनी को दूसरा बड़ा झटका तब लगा जब कल कंपनी के डायरेक्टर, संजय भार्गव ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया।

कंपनी के मौजूदा कठिन हालातों के बीच ही स्टारलिंक इंडिया के हेड (Starlink India Head) संजय भार्गव ने तीन महीने में ही नौकरी छोडने का ऐलान कर दिया है।

संजय भार्गव ने मंगलवार शाम को अपने LinkedIn पोस्ट में कहा;

“मैंने व्यक्तिगत कारणों से स्टारलिंक इंडिया के कंट्री डायरेक्टर और बोर्ड के चेयरमैन का पद छोड़ने का फ़ैसला किया है। 31 दिसंबर 2021 कंपनी में मेरा अंतिम दिन था। मेरे पास कहने को और कुछ नहीं है।”

ज़ाहिर है कंपनी में सब कुछ ठीक नज़र नहीं आ रहा है। पर इसी दौरन Starlink के मौजूदा हालात Airtel द्वारा ख़रीदी गई कंपनी OneWeb के लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकते हैं जो Starlink की तरह ही सैटेलाइट इंटरनेट सेवाओं की पेशकश करती है।

SpaceX का Starlink लो-अर्थ ऑर्बिटर, मतलब कि पृथ्वी की निचली कक्षा में तैनात किया गया कई सारे छोटे-छोटे सैटेलाइट्स के एक नेटवर्क का इस्तेमाल करके इंटरनेट सेवा प्रदान करता है।

दावे के मुताबिक़ टेस्टिंग के दौरान Starlink 50-150 Mbps के बीच इंटरनेट स्पीड दे पा रहा है। पर Elon Musk ने ये भी कहा था कि कंपनी Starlink Internet Speed को क़रीब 300 Mbps तक ले जाने की दिशा में काम कर रही है।