india-to-get-5g-internet-in-2022-starting-with-these-13-cities

India to get 5G internet in 2022: भारत में 5G नेटवर्क रोलआउट का टेलीकॉम कंपनियाँ और ग्राहक दोनों ही बेसब्री से इंतज़ार कर रहें हैं। और ऐसा लगता है कि नए साल में ये इंतज़ार ख़त्म होने वाला है।

असल में दूरसंचार विभाग (DoT) ने 27 दिसंबर को यह ऐलान किया है कि आने वाले नए साल यानि 2022 में देश के कई शहरों और महानगरों में 5G सेवाएं शुरू कर दी जाएंगी।

अपने बयान में DoT ने कहा कि एयरटेल (Airtel), Vi (Vodafone-Idea) और जियो (Jio) ने देश के कई शहरों में 5G टेस्टिंग स्पॉट स्थापित कर लिए हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

ये इसलिए और अहम हो जाता है क्योंकि दूरसंचार विभाग पहले ही ये साफ़ कर चुका है कि 5G इंटरनेट नेटवर्क तकनीक मौजूदा 4G नेटवर्क की तुलना में 10 गुना बेहतर डाउनलोड स्पीड और तीन गुना अधिक स्पेक्ट्रम दक्षता प्रदान करती नज़र आएगी।

इस बीच दिलचस्प रूप से दूरसंचार विभाग ने ये भी खुलासा किया कि शुरुआत में देश भर के 13 शहरों में 5G सेवाओं का आगाज किया जाएगा। इन 13 शहरों में निम्नलिखित शहर शामिल हैं;

These 13 cities (India) will get 5G Internet Services in 2022
  1. अहमदाबाद
  2. बेंगलुरु
  3. चंडीगढ़
  4. चेन्नई
  5. दिल्ली
  6. गांधीनगर
  7. गुरुग्राम
  8. हैदराबाद
  9. जामनगर
  10. कोलकाता
  11. लखनऊ
  12. मुंबई
  13. पुणे

असल में ये तमाम शहर वहीं हैं जहाँ देश के दिग्गज़ टेलीकॉम ऑपरेटर्स ने 5G टेस्टिंग साइट तैयार की हैं।

आपको बता दें दूरसंचार विभाग ने 2018 मेंस्वदेशी 5G Test Bed प्रोजेक्ट शुरू किया था, जिसके लिए इसने आठ भागीदारों को चुना था। बता दें DoT का ये 5G Test Bed प्रोजेक्ट अब 31 दिसंबर, 2021 तक पूरा होने की संभावना है।

India_may_ban_Huawei_ZTE

इस प्रोजेक्ट के लिए DoT ने जिन 8 भागीदारों को चुना है, उनमें भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) बॉम्बे, IIT दिल्ली, IIT हैदराबाद, IIT मद्रास, IIT कानपुर, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (IISC) बैंगलोर, सोसाइटी फॉर एप्लाइड माइक्रोवेव इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग एंड रिसर्च (SAMEER) और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस इन वायरलेस टेक्नोलॉजी (CEWiT) शामिल हैं।

इस बीच देश में Airtel, Jio और Vi, तीनों निजी दूरसंचार कंपनियों के साथ दूरसंचार उपकरण निर्माता कंपनियों – Ericsson, Nokia, Samsung और C-DOT को 6 महीने की 5G टेस्टिंग की मंज़ूरी दी गई है।

इस टेस्टिंग के दौरन जून में Jio ने 1 Gbps की अधिकतम स्पीड दर्ज करने का दावा किया था। वहीं Airtel ने भी जुलाई में इसी के बराबर अधिकतम स्पीड दर्ज की थी।

देश में आगामी साल 2022 को 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी भी होनी है। इसको लेकर DoT ने कहा कि सितंबर 2021 में उसने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) से 5G स्पेक्ट्रम नीलामी और विभिन्न तौर-तरीकों जैसे आरक्षित मूल्य, बैंड प्लान, ब्लॉक साइज़, स्पेक्ट्रम की मात्रा के लिए सिफारिशें मांगीं थीं।

ग़ौर करने वाली बात ये भी है कि DoT ने 6G ‘Technology Innovation Group’ (TIG) का भी गठन किया है, जिसका मक़सद वैश्विक मानकों के आधार पर देश में समानांतर रूप से 6G क्षमता के निर्माण व इसके विकास में भागीदार बनने का है।

इस 6G TIG में सरकार, शिक्षा जगत, उद्योग संघों और भारतीय दूरसंचार मानक विकास सोसायटी (TSDSI) आदि से संबंधित सदस्य शामिल किए गए हैं।