rbi-to-launch-upi-based-payment-product-for-feature-phone-users

UPI on Feature Phone: भारत में UPI पेमेंट काफ़ी तेज़ी से लोकप्रिय हो रहा है, और इसमें थर्ड पार्टी ऐप्स जैसे Google Pay, PhonePe, Paytm आदि भी एक बड़ी भूमिका निभा रहें हैं। लेकिन BHIM आदि सहित ये तमाम ऐप्स सिर्फ़ स्मार्टफ़ोन्स पर ही काम कर सकती हैं। ऐसे में उन उपयोगकर्ताओं का क्या जो आज भी फ़ीचर फ़ोन्स का इस्तेमाल करते हैं?

असल में भारत में आज भी फ़ीचर फ़ोन इस्तेमाल करने वाले उपयोगकर्ताओं की संख्या काफ़ी है, ख़ासकर ग्रामीण इलाक़ों में जहाँ अच्छा इंटरनेट व मोबाइल चार्जिंग की सुविधा आज भी उतनी पुख़्ता नहीं है। इसलिए कई बार बजट होते हुए भी लोगों के लिए फ़ीचर फ़ोन रखना एक मजबूरी भी बन जाती है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

पर अब RBI ने फ़ीचर फ़ोन उपयोगकर्ताओं के लिए भी UPI जैसी बुनियादी सेवा को पेश करने का मन बनाया है। जी हाँ! भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपने हालिया बयान में कहा है कि इसने फीचर फोन यूजर्स के लिए UPI-आधारित पेमेंट प्रोडक्ट लॉन्च करने का फैसला किया है।

आपको बता दें फीचर फोन से मतलब उन छोटे बेसिक मोबाइल फोनों से है, जो आमतौर पर वॉयस कॉलिंग और टेक्स्ट मैसेजिंग जैसी बुनियादी फंक्शनलिटी/सेवाएँ प्रदान करते हैं। इनमें से कुछ में शुरुआती मल्टीमीडिया और इंटरनेट विकल्प भी होते हैं।

RBI to launch UPI based payment product for feature phone users

फ़ीचर फ़ोन्स के लिए डिजिटल पेमेंट सिस्टम पेश करने की घोषणा के साथ ही आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने RBI की Retail Direct स्कीम के लिए UPI पेमेंट लेनदेन की लिमिट को ₹2 लाख से बढ़ाकर ₹5 लाख करने का भी ऐलान किया है।

upi-transaction-value-doubled-to-rs-6-06-lakh-crore-in-july

आरबीआई गवर्नर की मानें तो लेन-देन के वॉल्यूम के नज़रिए से UPI देश की सबसे बड़ी रिटेल पेमेंट प्रणाली बन गया है, जो देश भर में व्यापाक रूप से अपनाई जा रही है। और ये इसलिए ख़ास हो जाती है क्योंकि UPI को अपनाने में छोटे दुकानदार भी काफ़ी आगे हैं और इसके ज़रिए छोटे लेनदेन भी काफ़ी मात्रा में किए जाने लगे हैं।

असल में RBI गवर्नर शशिकांत दास ने डिजिटल पेमेंट सिस्टम को देश भर में और व्यापाक रूप देने के लिए तीन प्रस्तावों की घोषणा की।

इसमें से पहला तो रहा फीचर फोन में उपयोगकर्ताओं के लिए UPI आधारित पेमेंट प्रोडक्ट को लॉन्च करने से संबंधित।

दूसरा प्रस्ताव UPI ऐप्स में ऑन-डिवाइस वॉलेट के जैसे एक सिस्टम के ज़रिए छोटे मूल्य के लेनदेन को और आसान बनाने का। और तीसरा प्रस्ताव सरकारी प्रतिभूतियों और IPO आवेदनों में निवेश के लिए Retail Direct स्कीम के तहत UPI के माध्यम से लेनदेन की सीमा को ₹2 लाख से बढ़ाकर ₹5 लाख करने से संबंधित।

नवंबर 2021 के NPCI के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक़ UPI लेनदेन ने पहली बार $100 बिलियन मूल्य को छूता नज़र आया।

वहीं TRAI के आँकड़ो की मानें तो भारत में अभी भी 300 मिलियन से अधिक फीचर फोन उपयोगकर्ता हैं, जो सेवा के लाइव होने के बाद यूपीआई-आधारित पेमेंट सुविधा का इस्तेमाल करना शुरू कर सकते हैं।

फ़िलहाल ऐसी कोई मूल UPI ऐप नहीं है जिसके माध्यम से फीचर फोन उपयोगकर्ता UPI लेनदेन कर सकें। केवल फीचर फोन या गैर-इंटरनेट-आधारित मोबाइल डिवाइसो से राष्ट्रीय एकीकृत यूएसएसडी प्लेटफॉर्म (NUUP) के ज़रिए ही भुगतान किया जा सकता है। इसके लिए उपयोगकर्ताओं को अपने मोबाइल फोन पर एक इंटरैक्टिव मेनू के माध्यम से *99# डायल करके लेनदेन किया जा सकता है।