mukesh-ambani-on-5g-rollout-says-it-should-be-nations-priority

Mukesh Ambani on 5G Rollout: ना ही ‘रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड’ (Reliance Industries Limited) किसी के परिचय की मोहताज है और ना ही इसके चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर, मुकेश अंबानी।

मुकेश अंबानी को हमेशा नपा-तुला बोलने वाले बिज़नेस लीडर्स में गिना जाता है, लेकिन उनका हर एक बयान कई मायनों में इंडस्ट्री की दिशा और दशा तय करता नज़र आता है। और ऐसा ही एक बयान मुकेश अंबानी ने हाल में इंडियन मोबाइल कांग्रेस (Indian Mobile Congress) 2021 में भी दिया।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में अंबानी ने IMC 2021 में अपने संबोधन के दौरान कहा कि भारत को देश भर में कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए 5G रोलआउट (लॉन्च) को प्राथमिकता देनी चाहिए।

इतना ही नहीं बल्कि एक बार फिर से मुकेश अंबानी ने देशवासियों को जल्द से जल्द 2G नेटवर्क से 4G नेटवर्क में स्थानांतरित होने को भी अहम करार दिया। और इसी कड़ी में उन्होंने 5G को क्रांतिकारी तकनीक भी बताया।

Reliance का नेतृत्व करने वाले मुकेश अंबानी ने कहा;

“भारत को 2G से 4G और फिर 5G में माइग्रेशन की प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूरा करना चाहिए। लाखों भारतीयों को सामाजिक-आर्थिक पिरामिड में सबसे निचले पायदान पर 2G तक सीमित रखना, असल में उन्हें डिजिटल क्रांति के लाभों से वंचित रखने जैसा ही है।”

इस बार की IMC 2021 की थीम ‘Connectivity for the next Decade’ पर बोलते हुए अंबानी ने स्पष्ट रूप से कहा,

“5G का रोल-आउट भारत की राष्ट्रीय प्राथमिकता होनी चाहिए।”

उन्होंने आगे कहा,

“Jio में हम वर्तमान में 4G और 5G इस्तेमाल और ब्रॉडबैंड इंफ्रास्ट्रक्चर विस्तार पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हमने 100% घरेलू और व्यापक 5G सोल्यूशन विकसित किया है जो पूरी तरह से क्लाउड तकनीक आधारित व डिजिटल रूप से मैनेज किया जाता है।”

उन्होंने ज़ोर देते हुए ये भी कहा कि Jio के बेहतरीन और भविष्य को ध्यान में रखते हुए तैयार किए गए आर्किटेक्चर के चलते, Jio के नेटवर्क को 4G से 5G में तेजी और आसानी के sath अपग्रेड किया जा सकता है।

Mukesh Ambani on 5G Rollout

IMC 2021 में दिया गया उनका ये बयान इसलिए भी दिलचस्प हो जाता है क्योंकि एक हफ्ते पहले ही एक शीर्ष सरकारी अधिकारी ने कहा था कि भारत अगले साल की शुरुआत में 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी करने की योजना बना रहा है।

what-is-jio-submarine-cable-system-in-india-जियो-सबमरीन-केबल-सिस्टम

ग़ौर करने वाली बात ये है कि पिछले साल ही Reliance Jio ने Google (Alphabet), Facebook, Qualcomm और Intel आदि जैसे टेक दिग्गजों को बतौर निवेशक ख़ुद के साथ जोड़ा है और ऐसे में कंपनी को भरोसा है कि वह भारत में सबसे पहले और सबसे बेहतरीन 5G सेवाओं को लॉन्च करने वाली टेलीकॉम कंपनी बन सकती है।

इस बात को इसलिए और बल मिल रहा है क्योंकि Jio ने स्थानीय स्तर पर ही अपने 5G नेटवर्क सम्बन्धित तकनीक और संसाधनों को विकसित करने का दावा भी पेश किया है।

याद दिला दें Google जिसने पिछले साल Jio की मूल कंपनी, Jio Platforms में क़रीब $4.5 बिलियन का निवेश किया था।

इस निवेश के साथ ही Google ने यह भी कहा है कि वह Jio को हर तकनीकी मदद भी प्रदान करेगा, और इसका उदाहरण हाल ही में Jio और Google द्वारा साझेदारी के तहत पेश किए गए बेहद सस्ते स्मॉर्टफ़ोन, JioPhone Next से भी देखा जा सकता है।

ये तुलनात्मक रूप से बेहद कम क़ीमत पर उपलब्ध एक 4G स्मार्टफ़ोन है, जिसकी क़ीमत भारतीय बाज़ार में क़रीब ₹6,499 है। यूज़र्स इसको ₹1,999 पर ख़रीदते हुए शेष राशि का भुगतान मासिक किश्तों के रूप में भी कर सकते हैं।