phonepe-charge-processing-fees-on-mobile-recharges-above-rs-50

PhonePe Mobile Recharges Fees: वॉलमार्ट (Walmart) के मालिकाना हक वाले लोकप्रिय डिजिटल पेमेंट प्लेटफ़ॉर्म PhonePe पर अब मोबाइल रिचार्ज महँगा होने जा रहा है। जी हाँ! असल में अब कंपनी ने UPI (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) के जरिये ₹50 से अधिक से मोबाइल रिचार्ज पर ‘प्रोसेसिंग फीस’ लेना शुरू कर दिया है।

असल में सामने आई ख़बरों के मुताबिक़ इस कदम के साथ PhonePe पहला ऐसा डिजिटल पेमेंट ऐप बन गया है जो UPI आधारित लेनदेन के लिए प्रोसेसिंग फीस (Processing Fees On UPI Payment) लेगा।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

ये इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि भारत के UPI बाजर में PhonePe एक प्रमुख खिलाड़ी माना जाता है, जो सीधे तौर पर Google Pay जैसे अन्य दिग्गज़ को कड़ी टक्कर दे रहा है।

हुआ ये है कि कंपनी अब ₹50 से अधिक से मोबाइल रिचार्ज पर ₹1 से ₹2 तक की ‘प्रोसेसिंग फीस’ ले कर रही है। बाताय ये जा रहा है कि यह कदम फ़िलहल प्रायोगिक आधार पर कम संख्या में उपयोगकर्ताओं के साथ किया जा रहा है।

PhonePe starts charging processing fees on mobile recharges

इस नए प्लान के तहत ₹51 से ₹100 के बीच के मोबाइल रिचार्ज पर ₹1 और वहीं ₹100 से अधिक के मोबाइल रिचार्ज पर ₹2 का अतिरिक्त शुल्क लगेगा।

कंपनी के प्रवक्ता की मानें तो वह अपने प्लेटफॉर्म पर बहुत छोटे उपयोगकर्ता आधार के साथ इसका प्रयोग कर रहें हैं। उनके अनुसार अधिकांश उपयोगकर्ता आधार से अभी भी किसी भी तरीक़े का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जा रहा है।

कंपनी के मुताबिक़, इस प्रयोग के हिस्से के रूप में भी फ़िलहाल ₹1 ही चार्ज किया जा रहा है। वैसे साफ़ कर दें कि PhonePe पर अन्य तरह का लेनदेन और मनी ट्रांसफ़र अभी भी निःशुल्क ही रहेगा।

india-smartphone-market-to-reach-record-173-mn-units-in-2021-report

ग़ौर करने वाली बात ये है कि UPI लेनदेन के मामले में बतौर थर्ड पार्टी ऐप PhonePe भारतीय बाज़ार में एक बड़ी हिस्सेदारी रखता है। सामने आए कुछ आँकड़ो को देखें तो कंपनी सितंबर में अपने प्लेटफॉर्म पर 165 करोड़ से ज्यादा UPI लेनदेन संख्या दर्ज की थी।

देखा जाए तो PhonePe भारतीय बाज़ार में UPI मासिक वॉल्यूम के नज़रिए से 45% की और लेनदेन के मासिक क़ीमत के नज़रिए से 47% की हिस्सेदारी रखता है।

अगस्त के लिए BBPS (Bharat BillPay Services) को लेकर नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा साझा किए गए नवीनतम आंकड़ों के अनुसार PhonePe इस क्षेत्र में 49% वॉल्यूम शेयर के साथ अग्रणी प्लेटफ़ॉर्म बनकर सामने आया है।

Flipkart के पूर्व अधिकारियों समीर निगम, राहुल चारी और बुर्जिन इंजीनियर द्वारा 2015 में स्थापित PhonePe के फ़िलहल भारत में 30 करोड़ से अधिक पंजीकृत उपयोगकर्ता हैं। इस प्लेटफ़ॉर्म पर आपको पेमेंट सुविधा के साथ ही साथ बीमा, सोने की खरीद और म्यूचुअल फंड सेवाएं भी मिलती हैं।

वित्त वर्ष 2021 में PhonePe ने का घाटा 44% कम होते हुए ₹888 करोड़ रहा, जो वित्त वर्ष 2020 में ₹1,570 करोड़ था।