freshworks-nasdaq-ipo-has-made-500-employees-crorepatis
Credit: (Twitter / (Girish Mathrubootham) @mrgirish

Freshworks NASDAQ IPO: भारतीय सॉफ्टवेयर-एज़-सर्विस (SaaS) जगत काफ़ी तेज़ी से बढ़ता नज़र आ रहा है। और इसमें एक और बड़ी उपलब्धि जोड़ी गिरीश मथरुभूतम (Girish Mathrubhootam) के नेतृत्व वाली Freshworks ने, जो बुधवार को NASDAQ में इन-लिस्ट होने वाला पहला SaaS क्षेत्र से जुड़ा भारतीय स्टार्टअप बन गया है।

जी हाँ! Freshworks ने बुधवार को Nasdaq इंडेक्स में क़रीब $36 प्रति शेयर के साथ शुरुआत की। लेकिन दिलचस्प ये है कि कंपनी के IPO का फ़ायदा सिर्फ़ संस्थापक और निवेशकों के अलावा कंपनी के कर्मचरियों को भी हुआ है, वो भी ये आँकड़े हैरान करने वालें हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में इकोनॉमिक टाइम्स (ईटी) को दिए एक इंटरव्यू में Freshworks के सीईओ, गिरीश ने बताया कि उनकी कंपनी ने न सिर्फ़ अन्य भारतीय SaaS स्टार्टअप के लिए IPO दायर करने का मार्ग प्रशस्त किया है, बल्कि शेयर बाज़ार में सूचीबद्ध होते हुए अपने कर्मचारियों को भी पैसों के मोर्चे पर अत्यधिक लाभ पहुँचाया है।

उन्होंने ये जानकारी दी कि कंपनी के सोमवार को सार्वजनिक होने के बाद से भारत में उनके 500 कर्मचारी करोड़पति बन गए हैं और इनमें से 69 लोगों की उम्र 30 से कम है। Freshworks के दो-तिहाई कर्मचारी शेयरधारक बताए जाते हैं।

freshworks-nasdaq-ceo-girish-mathrubootham

इस दौरान गिरीश ने ईटी को कुछ समय पहले दिए एक इंटरव्यू को भी याद किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि वह अपने लिए BMW खरीदने के मक़सद से नहीं, बल्कि उनके सभी कर्मचारियों के पास BMWs हों, इस लक्ष्य के साथ Freshworks शुरू कर रहे हैं।

समाचारपत्र को दिए अपने इंटरव्यू में गिरीश ने कहा;

“जिन कर्मचारियों ने वास्तव में इस कंपनी के निर्माण में सहयोग दिया है, उनके साथ पुरस्कार बाँटना ही चाहिए। भारत में हमारे 500 से अधिक कर्मचारी ‘करोड़पति’ होंगे, और उनमें से 69 की उम्र 30 साल से कम की है।”

गिरीश ने अपनी कंपनी की सफलता का श्रेय अपने सभी कर्मचारियों को दिया और कहा कि उनकी कंपनी ने इस क्षेत्र में $120 बिलियन के बाजार में व्यापाक अवसर की सतह को खरोंचना शुरू कर दिया है।

इस बीच अमेरिकी शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने और भारत में वापसी ना करने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि Freshworks शुरू से ही एक वैश्विक कंपनी रही है। इसके ग्राहक 120 से अधिक देशों में हैं और इसके सभी राजस्व अमेरिका में मान्यता प्राप्त हैं। गिरीश के कहा;

“हम संरचनात्मक रूप से एक अमेरिकी-मुख्यालय वाली कंपनी हैं, और इसलिए मुझे लगता है कि अमेरिका के शेयर बाज़ार में लिस्टिंग अधिक तर्कसंगत है।”

Nasdaq में डेब्यू के समय इस एंटरप्राइज सॉफ्टवेयर निर्माता की वैल्यूएशन $12.2 बिलियन थी, जिसमें शेयर ओपनिंग मूल्य IPO प्राइस से 21% अधिक पर रहा, जो ज़ाहिर तौर पर कंपनी के शेयरों की मजबूत मांग को दर्शाता है।

चेन्नई में स्थापित और कैलिफ़ोर्निया मुख्यालय वाली Freshworks की शुरुआत गिरीश मथरुभूतम (Girish Mathrubhootam) और शान कृष्णासामी (Shan Krishnasamy) ने की थी। आसान भाषा में कहें तो कंपनी ऐसे सॉफ्टवेयर बनाती है, जो व्यवसायों को ग्राहक प्रबंधन के साथ ही, मैसेजिंग प्लेटफॉर्म, कस्टमर सपोर्ट और चैटबॉट आदि जैसी सहूलियतें भी प्रदान करते हैं।