yahoo-news-india-websites-shuts-down-operations-in-india
Photo Credit: Wikimedia Commons

Yahoo News India Shuts Down: लोकप्रिय याहू (Yahoo) पर मालिकाना हक़ रखने वाली अमेरिका आधारित टेक कंपनी वेरिज़ॉन मीडिया (Verizon Media) ने भारत में अपनी न्यूज़ वेबसाइटों को बंद करने का ऐलान कर दिया है।

जी हाँ! कंपनी द्वारा संचालित की जाने वाली याहू क्रिकेट (Yahoo Cricket), याहू फाइनेंस (Yahoo Finance), न्यूज (News), एंटरटेनमेंट (Entertainment) और अन्य समाचार साइटों को बंद किया जा रहा है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

वैसे बता दें वेब सर्विस प्रदाता Yahoo India ने गुरुवार यानि 26 अगस्त को ही देश में अपने न्यूज़ पब्लिकेशन को बंद कर दिया है। मतलब ये कि भारत में अब इसके प्लेटफ़ॉर्म पर 26 अगस्त से ही कोई नया कंटेंट पब्लिश नहीं होगा।

Yahoo News India के होमपेज पर अब एक नोटिस भी लिखा आ रहा है, जिसमें ये कहा गया है;

“26 अगस्त, 2021 से Yahoo India अब कंटेंट प्रकाशित नहीं करेगा। आपका Yahoo अकाउंट, Mail और Search इस कदम से प्रभावित नहीं होंगे और पहले ही तरह ही काम करते रहेंगें। हम आपके समर्थन के लिए आपका धन्यवाद करते हैं।”

लेकिन एक बड़ा सवाल ये आता है कि आख़िर जब कंपनी Yahoo Account, Mail और Search जैसी सेवाएँ दे ही रही है, तो फिर इसने Yahoo News India को बंद करने का फ़ैसला क्यों किया है?

yahoo-india-shuts-down-news-operations-following-new-fdi-rules

Why Yahoo News India shuts down its Websites?

असल में Yahoo ने इस कदम के पीछे की वजह नए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों को बताया है, जिनके अनुसार डिजिटल समाचार मीडिया आउटलेट में 26% से अधिक की विदेशी निधि को प्रतिबंधित कर दिया गया है।

अक्टूबर में लागू हुए नए एफडीआई नियमों (New FDI Rules) के अनुसार, भारत में डिजिटल मीडिया कंपनियां केंद्र सरकार से मंज़ूरी प्राप्त करके ही विदेशी निवेश के रूप में 26 प्रतिशत तक निवेश हासिल कर सकती हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार Verizon नवंबर 2020 से सरकार से मंजूरी लेने की कोशिश कर रहा था, लेकिन इसको सफ़लता नहीं मिली।

इस कदम को लेकर Verizon Media की ग्लोबल पब्लिक पॉलिसी प्रमुख, अप्रैल बॉयड (April Boyd) ने कहा;

“न्यूज़ और करंट अफेयर्स स्पेस में काम करने वाली मीडिया कंपनियों पर विदेशी मालिकाना हक़ को सीमित करने वाले नियमों में बदलाव किए गए हैं, जिसके अंतर्गत ऐसे डिजिटल मीडिया इकाई भी आते हैं, जो भारत में समाचार एग्रीगेटर्स के रूप में डिजिटल न्यूज़ और करंट अफेयर्स कंटेंट को स्ट्रीम या अपलोड करने की सुविधा देते हैं।”

उन्होंने आगे बताया कि भारत में डिजिटल न्यूज़ और करंट अफेयर्स कंटेंट बिज़नेस में संचालन करने के लिए आवश्यक मंज़ूरी के आभाव और निश्चित समय सीमा के भीतर मीडिया बिज़नेस के पुनर्गठन और इससे संबंधित परिचालन और आर्थिक चुनौतियों का मूल्यांकन करने के बाद ही कंपनी ने अपने News Website को बंद करने का फ़ैसला किया है।