ola-shuts-down-ola-cars-and-ola-dash

Ola Cars: भारतीय कैब सेवा प्रदाता ओला (Ola) धीरे-धीरे वाहन संबंधित अन्य क्षेत्रों में भी अपने विस्तार के प्रयास कर रही है, और इस कड़ी में कंपनी का सबसे बड़ा दाँव रहा है ओला इलेक्ट्रिक स्कूटर (Ola Electric Scooter) को लेकर।

लेकिन कंपनी का इरादा यही रुकनें का नहीं है। सामने आई कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार Ola अब इस्तेमाल की गई कारों (पुरानी कारों) की ऑनलाइन बिक्री क्षेत्र में भी प्रवेश करने की योजना बना रही है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

ज़ाहिर है इसमें कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि महामारी के दौर में लोग सार्वजनिक वाहनों की तुलना में सस्ते पर्सनल मोबिलिटी विकल्प की तलाश कर रहें हैं और ऐसे में इस्तेमाल की गई पुरानी कारों से बेहतर विकल्प भला दूसरा क्या हो सकता है?

ईटी की एक रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी के इस नए व्यवसाय को Ola Cars के नाम से जाना जा सकता है। रिपोर्ट में इस संबंध में जानकारी रखने वाले सूत्रों ने इस बात का ख़ुलासा किया है।

Ola Cars – A platform to sell used cars? (Hindi)

सामने ये आया है कि Ola Cars एक साधारण से बिज़नेस मॉडल को फ़ॉलो करेगी, जैसे मान लीजिए अगर किसी के पास बेचनें लायक़ कोई पुरानी कार है, तो वो Ola के इस नए प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल कर सकता है।

लेकिन इतना ज़रूर है कि Ola Cars पर लिस्ट होने से पहले कंपनी यह सुनिश्चित ज़रूर कर सकती है कि कारें बेची जाने से पहले अच्छी स्थिति में हों।

cars-to-sell
Credits: Wikimedia Commons

वैसे अभी तक ये साफ़ नहीं हो सकता है कि क्या Ola इन पुरानी कारों को बेचनें के लिए क्या कोई नई ऐप पेश करेगा या फिर पहले से मौजूद अपने Ola ऐप में ही लोगों को ये फ़ीचर उपलब्ध करवाएगा।

वहीं कुछ ही दिनों पहले सामने आई Entrackr की एक रिपोर्ट के अनुसार ओला ने Ola Cars के लिए एक टीम बनानी शुरू कर दी है।

ख़बर ये है कि कंपनी इस महीने बेंगलुरु में एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में इसकी शुरुआत कर सकती है। पर स्पष्ट कर दें कि Ola की ओर से आधिकारिक रूप से इस योजना के बारे में कोई भी ज़िक्र नहीं किया गया है।

मार्केट रिसर्च फर्म P&S Intelligence की एक स्टडी में ये सामने आया था कि भारत में पुरानी कारों का बाजार 2020 में $18.3 बिलियन से 2030 में $70.8 बिलियन तक होंगें की उम्मीद है, जिसमें 14.8% की वार्षिक वृद्धि दर है।

लेकिन इतना व्यापक होने के बाद भी भारत का ‘सेकेंड-हैंड कार बाजार’ काफ़ी बिखरा हुआ और असंगठित है, लेकिन कई स्टार्टअप – जैसे CarDekho, Cars24, Droom, Spinny और CarTrade आदि ने बीते कुछ सालों में इस क्षेत्र में प्रवेश कर इसको एक संगठित स्ट्रक्चर देने की कोशिशें शुरू की हैं।

इस बीच Ola भी तमाम अन्य भारतीय स्टार्टअप्स की तरह अपना IPO दायर करने की योजना बना रहा है और इसके इलेक्ट्रिक स्कूटर के लॉन्च की भी तारीख़ तय कर दी गई है, जो आगामी स्वतंत्रता दिवस के दिन यानि 15 अगस्त, 2021 को पेश किया जाना है।

ola-electric-scooter-to-launch-on-15-august-in-india

Ola Electric अपने ई-स्कूटर के लिए तमिलनाडु के कृष्णागिरी में 500 एकड़ की जगह पर दुनिया की सबसे बड़ी इलेक्ट्रिक स्कूटर फ़ैक्टरी में से एक FutureFactory का निर्माण कर रही है। एक बार पूरी तरह से शुरू होने के बाद कंपनी इस फ़ैक्टरी में हर साल लगभग 10 मिलियन वाहनों का निर्माण करने की उम्मीद कर रही है।