upi-transaction-value-doubled-to-rs-6-06-lakh-crore-in-july

भारत में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाम 4:30 बजे के क़रीब ई-वाउचर आधारित नया डिजिटल पेमेंट सिस्टम e-RUPI लॉन्च करने जा रहे हैं। महामारी के हालातों को देखते हुए e-RUPI को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लॉन्च किया जाएगा।

बता दें e RUPI असल में एक डिजिटल पेमेंट ऐप है, जिसको नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने अपने UPI प्लेटफॉर्म पर ही बनाया गया है। इसमें भारत के वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण ने भी NPCI की मदद की।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

e-RUPI क्या है?

e-RUPI को आप एक कांटैक्टलेस और कैशलेस डिजिटल पेमेंट के तौर पर समझ सकते हैं। असल में ये एक क्यूआर कोड (QR Code) या एसएमएस स्ट्रिंग (SMS String) आधारित ई-वाउचर (e-Voucher) है, जिसे लाभार्थियों के मोबाइल पर सीधे भेजा जाता है।

e-rupi-voucher-rupee

आसान भाषा में कहें तो e-RUPI पेमेंट सर्विस के ज़रिए उपयोगकर्ता बिना कार्ड, बिना किसी डिजिटल पेमेंट ऐप या बिना इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के भी वाउचर (Voucher) का इस्तेमाल कर सकते हैं।

How e-RUPI works?

ये नया e RUPI सिस्टम बिना किसी फ़िज़िकल इंटरफेस के डिजिटल तरीके से लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं के साथ सेवाओं के प्रायोजकों (स्पॉन्सर्स) को जोड़ने का काम करता है।

दिलचस्प ये है कि इस पेमेंट सिस्टम के ज़रिए ये सुनिश्चित किया जाता है कि लेन-देन पूरा होने के बाद ही सेवा प्रदाता को भुगतान किया जाए।

देखा जाए तो e RUPI को प्री-पेड प्रकृति का पेमेंट सिस्टम कहा जा सकता है, इसलिए यह किसी बिचौलिये के बिना सीधे सेवा प्रदाता को समय पर भुगतान करने में मदद करता है।

कहाँ कर सकते हैं e-RUPI का इस्तेमाल?

इस नए ई-रूपी सिस्टम का इस्तेमाल आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी, मातृ एवं बाल कल्याण योजनाओं, टीबी उन्मूलन कार्यक्रमों, आदि जैसी दवाओं, निदान और पोषण संबंधित योजनाओं के तहत सेवाएं देने के लिए भी किया जा सकता है।

यहां तक ​​कि निजी क्षेत्र भी अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) प्रोग्राम के लिए इस डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकते हैं।

इसको लेकर 1 अगस्त को ही पीएम मोदी ने एक ट्वीट करते हुए कहा था कि;

“डिजिटल टेक्नोलॉजी लोगों के जीवन को व्यापक रूप से बदल रही है, जिसके चलते ईज ऑफ लाइफ को बढ़ावा मिल रहा है, इसी कड़ी में अब e-RUPI को लॉन्च किया जा रहा है, जो एक फ्यूचरिस्टिक डिजिटल पेमेंट सॉल्यूशन साबित होगा।”