21-5-million-lost-jobs-in-tourism-sector-between-april-december-2020

Jobs Lost in Tourism Sector: भारत सरकार द्वारा साझा किए गए आँकड़ो के अनुसार, देश में महामारी के प्रकोप के चलते पर्यटन उद्योग (टूरिज्म सेक्टर) को सबसे अधिक नुक़सान होने का अनुमान जताया जा रहा है। असल में सामने आए आँकड़ो के मुताबिक़ अप्रैल-दिसंबर 2020 के बीच 9 महीनें की अवधि के दौरान टूरिज्म सेक्टर में 2 करोड़ से अधिक लोगों (क़रीब 21.5 मिलियन) को अपनी नौकरी गंवानी पड़ी है।

इन आँकड़ो के बारे में जानकारी राज्यसभा में पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डी ने एक लिखित जवाब के तहत दी, जिस दौरान उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते पर्यटन क्षेत्र में बड़ी संख्या में लोगों की नौकरियां गई हैं। उन्होंने अपने जवाब में कहा;

“पहली तिमाही के दौरान क़रीब 14.5 मिलियन नौकरियां, दूसरी तिमाही के दौरान क़रीब 5.2 मिलियन और तीसरी तिमाही के दौरान क़रीब 1.8 मिलियन लोगों की नौकरियाँ जाने का अनुमान है।”

श्री रेड्डी ने बताया कि ये जानकारी पर्यटन मंत्रालय के लिए नेशनल काउंसिल ऑफ एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च (NCAER) द्वारा महामारी के इस क्षेत्र में पड़े प्रभाव का अध्ययन करने के दौरान प्राप्त किए गए प्रमुख निष्कर्षों में से एक थी।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

India: 21.5 Million Lost Jobs in Tourism Sector

रिपोर्ट के अनुसार, 2020-21 के दौरान महामारी के चलते बने आर्थिक मंदी जैसे हालातों के कारण, पर्यटन अर्थव्यवस्था या टूरिज्म डायरेक्ट ग्रोस वैल्यू ऐडेड (TDGVA) में अप्रैल-जून 2020 में 42.8%, जुलाई-सितंबर 2020 में 15.5% और अक्टूबर-दिसंबर 2020 में 1.1% की गिरावट दर्ज की गई।

indian-tourism-pandemic-impact

इस बीच ग़ौर करने वाली बात ये भी है कि जी. किशन रेड्डी ने यह भी कहा कि पर्यटन मंत्रालय ने पर्यटन से होने वाले राजस्व के आँकड़ो को जमा करने या उसका कोई व्यापाक रखरखाव नहीं किया है।

वहीं एक अन्य प्रश्न का जवाब देते हुए मंत्री ने ये भी कहा कि मंत्रालय द्वारा यह आँकलन करने के लिए कोई औपचारिक अध्ययन नहीं किया गया था कि क्या सभी राज्यों के लोगों की आवाजाही पर्यटन स्थलों पर बढ़ी है या नहीं, जिससे दूसरी लहर के बाद कोविड​​​-19 पॉज़िटिव मामलों में वृद्धि की आशंका व्यक्त की जाए।

साथ ही Bureau of Immigration के हवाले से ये भी बताया गया कि 2019 में भारत में विदेशी पर्यटकों के आगमन की संख्या 10.93 मिलियन थी, जो 2020 में घटकर 2.74 मिलियन और जून 2021 तक लगभग 0.42 मिलियन हो गई।

वहीं पर्यटन मंत्रालय द्वारा इक्कठा किए गए आंकड़ों के अनुसार, कैलेंडर वर्ष 2019 के दौरान घरेलू पर्यटकों की विज़िट क़रीब 2321.98 मिलियन थी जो 2020 में 610.21 मिलियन ही रही।