pakistan-bans-tiktok-for-4th-time-for-inappropriate-content

Pakistan Bans TikTok: पड़ोसी देश पाकिस्तान ने टिकटॉक (TikTok) को के बार फिर से देश में बैन कर दिया है। इसके पीछे वजह ये बताई जा रही है कि चीनी कंपनी बाइटडांस (ByteDance) की शॉर्ट वीडियो शेयरिंग ऐप TikTok पाकिस्तान में ‘अनुचित सामग्री’ को हटाने में कथित तौर पर विफल रही है।

दिलचस्प ये है कि पाकिस्तान द्वारा बुधवार को TikTok पर लगाया गया बैन चीन की इस ऐप पर देश में हाल के महीनों में चौथी बार लगाया गया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

वहीं पड़ोसी देश के टेलीकॉम नियामक, पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन प्राधिकरण (PTA) ने ट्वीट करके बताया कि ‘इलेक्ट्रॉनिक अपराध रोकथाम कानून, 2016’ के संबंधित प्रावधानों के तहत PTA ने देश में TikTok ऐप और इसकी वेबसाइट पर रोक लगा दी है।

अपने ट्वीट में PTA ने बताया कि उसको लगातार प्लेटफ़ॉर्म पर ‘अनुचित कंटेंट’ पोस्ट किए जाने की शिकायत मिल रही हैं। लेकिन तमाम चेतावनियों के बाद भी ऐसे कंटेंट को हटाने के लिए कंपनी ने कोई ठोस क़दम नहीं उठाए हैं, जिसके चलते PTA को ये कार्यवाई करनी पड़ी।

Pakistan bans TikTok for 4th time

याद दिला दें इसके पहले मार्च में पाकिस्तान (Pakistan) की उत्तर-पश्चिम में स्थित पेशावर हाईकोर्ट में प्लेटफ़ॉर्म पर अश्लील कंटेंट फैलाने का आरोप लगाते हुए इसको बैन करने की माँग की गई थी, जिसके चलते पेशावर हाई कोर्ट ने कई नागरिकों की उस याचिका पर फ़ैसला लेते हुए ऐप को बैन कर दिया था।

लेकिन इसके कुछ हफ्तों बाद ही बैन को हटाते हुए कोर्ट ने PTA से कहा था कि वह ऐसे कदम उठाए जिसके चलते कोई ‘अनैतिक कंटेंट’ TikTok पर अपलोड न की जा सके।

इसके बाद 28 जून को PTA से एक नागरिक की शिकायत पर TikTok को बैन (प्रतिबंधित) करने का आदेश दिया था। इसके कुछ महीनों बाद पाकिस्तान के सिंध हाईकोर्ट ने देश में अनैतिकता फैलाने के कारण TikTok पर बैन लगा दिया था, लेकिन 2 जुलाई को को कोर्ट ने अपने ही फैसले को वापस ले लिया था।

पाकिस्तान में TikTok पर सबसे पहला प्रतिबंध PTA ने पिछले साल, अक्टूबर 2020 में लगाया था, तब भी ऐप पर अश्लील एवं अनैतिक कंटेंट फैलाने का आरोप लगा था। पर दिलचस्प ये रहा कि इस प्रतिबंध को 10 दिन बाद ही हटा दिया गया था।

ग़ौर करने वाली बात ये है कि पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने 16 जुलाई को देशवासियों को कुछ मुद्दों पर संदेश देने के लिए टिकटॉक (TikTok) का ही उपयोग किया था।

pakistan-tiktok

पाकिस्तान के लोकप्रिय डॉन अखबार की एक रिपोर्ट की मानें तो पिछले महीने कंपनी ने बताया था कि उसने 3 महीनों में TikTok से 60 लाख से अधिक वीडियो हटाए हैं।

भारत में TickTock नाम से वापसी के प्रयास कर रहा है प्लेटफ़ॉर्म

पर ये ख़बर भारत के लिहाज़ से इसलिए भी अहम हो जाती है क्योंकि कल ही हमनें आपको बताया था कि भारत में 2020 में ही बैन को चुका TikTok फिर से अपनी वापसी की कोशिशें कर रहा है और इस बार ये TickTock नाम से वापसी कर सकता है।

इस बात का ख़ुलासा Twitter पर टिप्स्टर मुकुल शर्मा (@stufflistings) द्वारा पोस्ट किए गए ByteDance के एक ट्रेडमार्क एप्लिकेशन से हुआ, जिसको कंपनी ने भारत के CGPDTM (Controller General of Patents, Designs, and Trade Marks) प्लेटफॉर्म पर दायर किया गया था।