reliance-in-advanced-talks-to-buy-justdial

Reliance Buying JustDial?: हाल ही में सामने आई तमाम रिपोर्ट्स की मानें तो रिलायंस इंडस्ट्रीज़ (Reliance Industries) जल्द एक बार फिर से शॉपिंग करती नज़र आ सकती है। जी हाँ! इस बार Reliance लोकल बिज़नेस लिस्टिंग प्लेटफॉर्म जस्टडायल (JustDial) को ख़रीद सकती है।

सूत्रों के अनुसार Reliance फ़िलहाल JustDial के अधिग्रहण को लेकर बातचीत के दौर में है और ये सौदा क़रीब ₹6000 से ₹6700 करोड़ (~ $800 – $900 मिलियन) तक में हो सकता है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

Reliance + JustDial = ?

दिलचस्प ये है कि JustDial की मौजूदा वैल्यूएशन क़रीब ₹6,980 करोड़ आँकी जाती है। और Reliance या RIL अब JustDial में लगभग 60% तक की हिस्सेदारी हासिल करने का मन बना रही है। कुछ ही दिनों में इसका आधिकारिक ऐलान होने की संभावना है।

वैसे इस बीच गुरुवार को जैसे ही इस ख़बर ने सुर्ख़ियाँ बटोरना शुरू किया तभी से ही BSE में JustDial के शेयर्स 3% तक की उछाल दर्ज करते नज़र आए।

लेकिन Reliance द्वारा अधिग्रहण की ये खबर इसलिए और दिलचस्प है क्योंकि JustDial कुछ ही महीनों पहले Tata Digital के साथ एक रणनीतिक साझेदारी को लेकर बातचीत के दौर में बताया जा रहा था। लेकिन फिर ख़बरें ये आई कि मार्च में हुई तमाम बातचीत बेनतीजा रहीं।

reliance

कंपनी में रिलायंस द्वारा दिलचस्पी लेने की मज़बूत वजह है। असल में मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाले RIL को JustDial का अधिग्रहण करके अपने मर्चेंट डेटाबेस को मजबूत करने और देश भर में अपने लोकल कॉमर्स बिज़नेस के प्रसार को तेज करने में मदद मिलेगी।

बता दें Reliance फ़िलहाल देश की सबसे बड़ी संगठित रिटेल विक्रेता कंपनी है। वहीं JustDial देश में लोकल सर्च इंजनों में प्रमुख माना जाता है, जिसके ज़रिए 150 मिलियन (15 करोड़) यूजर्स इसके ऐप, वेबसाइट और 8888888888 टेलीफोन हॉटलाइन जैसे प्लेटफॉर्म से जानकारी हासिल करते हैं।

वीएसएस मणि द्वारा 1996 में स्थापित, JustDial वित्त वर्ष 2021 के अंत तक 250 से अधिक शहरों में 30.5 मिलियन से अधिक लिस्टिंग से लैस नज़र आता है।

कंपनी के प्रमोटर और संस्थापक, वीएसएस मणि और उनके परिवार की कंपनी में 35.5 फीसदी हिस्सेदारी हैं, जिसकी कीमत फ़िलहाल ₹2,787.9 करोड़ है।