cci-orders-probe-against-google-for-news-aggregation-case

Sundar Pichai on ‘Free Internet’ under attack: कल एक इंटरव्यू के दौरान कैलिफ़ोर्निया में सिलिकॉन वैली आधारित Google के सीईओ सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) से पूछा गया कि क्या चीन के इंटरनेट की निगरानी आधारित मॉडल का अन्य दुनिया में भी तेज़ी से प्रसार हो रहा है? इस सवाल का सुंदर पिचाई ने काफ़ी दिलचस्प जवाब दिया, जो वाक़ई एक चिंता का विषय भी कहा जा सकता है।

अपने जवाब में बिना चीन या किसी देश का नाम लिए सुंदर पिचाई ने कहा कि फ़्री और ओपन इंटरनेट (Free Internet) पर दुनिया भर के कई हिस्सों में ‘हमला’ बढ़ता जा रहा है। इस बात का सीधा सा मतलब ये निकलता है कि ख़ुद दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट दिग्गज़ कंपनी, Google के मुखिया को ये लगने लगा है कि एक आज़ाद और स्वतंत्र रूप से इंटरनेट इस्तेमाल कर सकने की प्रवृत्ति को दुनिया भर में अब ना सिर्फ़ चीन बल्कि अन्य देशों में भी दबाया जा रहा है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

“Free, open internet under attack” – Sundar Pichai (CEO, Google)

पिचाई ने स्पष्ट रूप से इतना ज़रूर कहा कि कई देशों द्वारा सूचना के प्रवाह को बाधित करने की कोशिशें की जा रही है और अक्सर वहाँ और दुनिया भर के लोग इसको उतना गंभीरता से नहीं लेते।

असल में BBC को दिए अपने एक इंटरव्यू में सुंदर पिचाई दुनिया भर के कई हिस्सों पर फ़्री इंटरनेट सिस्टम को कमजोर करने संबंधित कई मुद्दों पर खुलकर अपनी राय व्यक्त करते नज़र आए।

इतना ही नहीं बल्कि उन्होंने भविष्य की आगामी तकनीकों को लेकर भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि आने वाले 25 सालों में दुनिया भर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) और क्वांटम कंप्यूटिंग (QC) कुछ क्रांतिकारी बदलावों का कारण बनते नज़र आएंगे।

मूलतः चेन्नई से संबंध रखने वाले 49 वर्षीय पिचाई ने टैक्स, प्राइवेसी और डाटा संबंधी कई विवादित मुद्दों पर भी अपनी बात सामने रखी।

पिचाई के अनुसार, Google दुनिया के कुछ सबसे बड़े टैक्स देने वाले संस्थनाओं में से एक है। उनके मुताबिक़ पिछले दशक के औसत पर नज़र डालें तो गूगल ने 20% से ज़्यादा टैक्स के रूप में दिया है। ज़ाहिर है गूगल अपने टैक्स का एक बड़ा हिस्सा अपने मूल देश यानि अमेरिका को देता है।

इंटरव्यू के दौरान हाई उन्होंने इस बात का भी ज़िक्र किया कि Google का कोई भी बड़ा प्रोडक्ट या सर्विस चीन में उपलब्ध नहीं है।

sundar-pichai-on-india
Credit: internetsaathiindia.org
“I’m an American citizen but India is deeply within me” – Sundar Pichai

लेकिन तमाम बातों के बीच पिचाई ने कुछ भावनात्मक पहलुओं को भी सामने रखा। एक जवाब के दौरान उन्होंने कहा कि मैं अमेरिकी नागरिक ज़रूर हूँ, लेकिन भारत आज भी मेरी रगों में है।