chinese-nationals-step-down-from-paytm-board-ahead-of-planned-ipos

Chinese nationals step down from Paytm board: पेटीएम (Paytm) का IPO जैसे-जैसे पास आ रहा है, इसको लेकर तमाम सुर्ख़ियाँ सामने आने लगी हैं। और अब एक बड़ी ख़बर ये सामने आई है कि Paytm अपने कंपनी बोर्ड में सभी चीनी नागरिकों को हटाते हुए वह स्थान अमेरिकी और भारतीय नागरिकों को दे सकती है। इस बात का ख़ुलासा नियामक फाइलिंग के ज़रिए हो सका है।

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो नियामक दस्तावेज के मुताबिक़ Paytm में Alipay के प्रतिनिधि जिंग जियानडोंग (Jing Xiandong), Ant Financial’ की तरफ़ से गुओमिंग चेंग (Guoming Cheng), और Alibaba के प्रतिनिधि माइकल यूएन जेन याओ (Yuen Jen Yao), जो एक अमेरिकी नागरिक हैं और टिंग होंग केनी हो (Ting Hong Kenny Ho) अब कंपनी के निदेशक नहीं हैं।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

Mint की रिपोर्ट के अनुसार पेटीएम (Paytm) के बोर्ड में अब कोई भी चीनी नागरिक नहीं है। वहीं Ant Group की ओर से अब अमेरिकी नागरिक डगलस फेगिन (Douglas Feagin) को बोर्ड में शामिल किया गया है।

कंपनी की फाइलिंग में ये भी सामने आया है कि Saama Capital के अशित रंजीत लीलानी (Ashit Ranjit Lilani) और Softbank के प्रतिनिधि विकास अग्निहोत्री (Vikas Agnihotri) को भी बोर्ड में शामिल किया गया है।

वहीं Berkshire Hathaway के निवेश प्रबंधक, टॉड एंथोनी कॉम्ब्स (Todd Anthony Combs) बोर्ड से रिटायर हो गए हैं।

Paytm board: पेटीएम के शेयरहोल्डर्स?

इस बीच ये साफ़ कर दें कि फाइलिंग के मुताबिक़ भले चीनी नागरिकों को कंपनी बोर्ड में अब कोई जगह न दी जा रही हो, लेकिन इससे कंपनी के शेयरहोल्डर्स की स्थिति में कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा।

असल में Paytm के शेयरहोल्डर्स में चीनी ई-कॉमर्स दिग्गज़ की सहायक कंपनी Ant Group (29.71%), SoftBank Vision Fund (19.63%), SAIF Partners (18.56%) और विजय शेखर शर्मा (14.67%) शामिल हैं।

paytm-board

वहीं AGH Holding, T Rowe Price, Discovery Capital और Berkshire Hathaway प्रत्येक रूप से कंपनी में क़रीब 10% से कम की हिस्सेदारी रखती हैं।

ज़ाहिर है ये सब अहम बदलाव ऐसे वक़्त में आ रहें हैं जब भारत की सबसे पुरानी और लोकप्रिय फिनटेक कंपनियों में से एक Paytm अब सार्वजनिक लिस्टिंग (IPO) को लेकर कमर कस रही है।

तमाम मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ Paytm को 12 जुलाई तक शेयरधारकों की मंजूरी मिलने की उम्मीद है, जिसके बाद कंपनी शुरुआती शेयर बिक्री के माध्यम से ₹16,600 करोड़ जुटाती नज़र आ सकेगी। और ऐसा करने पर कंपनी की वैल्यूएशन भी अनुमानित रूप से ₹1.78 लाख करोड़ से अधिक की हो जाएगी।