facebook-plans-to-change-its-name-the-verge

Facebook is now $1 Trillion company: दुनिया के बड़े इंटरनेट बाज़ारों का शायद ही कोई ऐसा कों छूटा हो, जहाँ बतौर सोशल मीडिया कंपनी किसी ने फेसबुक (Facebook) का नाम ना सुना हो! और अब कंपनी की इस लोकप्रियता की गवाही इसकी वैल्यूएशन (Valuation) भी दे रही है, जो अब ट्रिलयन डॉलर का आँकड़ा पार कर चुकी है।

जी हाँ! सही सुना आपने, Instagram, WhatsApp, FB App जैसे तमाम दिग्गज प्लेटफ़ॉर्म पर मालिकाना हक़ रखने वाली सोशल मीडिया दिग्गज़ कंपनी Facebook अब 1 ट्रिलियन डॉलर जितनी क़ीमती हो गई है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में अमेरिकी अदालत के न्यायाधीश द्वारा कंपनी के ख़िलाफ़ एकाधिकार को लेकर एक एंटीट्रस्ट केस को खारिज करने के बाद कंपनी की वैल्यूएशन में उछाल देखने को मिला।

Facebook becomes a $1 Trillion company

बता दें इस मुक़दमे में Facebook पर यह आरोप था कि इसने गलत तरीक़ों से व्हाट्सएप (WhatsApp) और इंस्टाग्राम (Instagram) के मालिकानों को कंपनी बेचने के लिए मजबूर किया। लेकिन कोर्ट के जज के अनुसार ये शिकायत कानूनी रूप से अपर्याप्त दावों और सबूतों के आधार पर होने के चलते इसको ख़ारिच कर दिया गया।

इस मामले में जज जेम्स बोसबर्ग ने कहा कि FTC कंपनी के खिलाफ़ एकाधिकार की शिकायत को लेकर कोई स्पष्ट सबूत पेश करने में असफल रहा है।

facebook-1-trillion-dollar

वैसे दिलचस्प ये है कि अपने फ़ैसले में उन्होंने यह भी साफ़ कहा कि FTC चाहे तो और भी तैयारियों के साथ 29 जुलाई तक फिर से शिकायत दायर कर सकता है।

इस फ़ैसले में अदालत की ओर से लिखा गया;

“इतना ज़रूर है कि अदालत Facebook के सभी तर्कों से सहमत नहीं है, लेकिन अंततः यह भी मानना होगा कि एजेंसी की शिकायत कानूनी रूप से पर्याप्त आधारों के साथ नहीं है और इसलिए अदालत ये मानती है कि इसको खारिज कर देना चाहिए।”

इस बीच फ़ैसले को लेकर Facebook की ओर से एक प्रवक्ता ने खुशी जताते हुए सरकारी शिकायतों में खामियों को इसकी वजह बताया।

लेकिन इस फ़ैसले का सबसे बड़ा असर पड़ा मार्केट पर, जो ये ख़बर सामने आते ही Facebook के शेयर की क़ीमतों को सीधे क़रीब 4% तक ऊपर ले गया और इसी के चलते कंपनी की वैल्यूएशन $1  ट्रिलियन का आँकड़ा छू सकी।

इस बीच माना ये जा रहा है कि FTC अदालत द्वारा दिए गए पुनः शिकायत दायर करने की छूट का लाभ उठा सकती है और इस मामले पर फिर से एजेंसी और कंपनी अदालत में आमने सामने नजर आ सकती हैं।