ryptocurrencies-like-bitcoin-ethereum-will-never-become-legal-tenders-finance-secretary

Bitcoin Price = 30000 Dollar?: कभी इसी साल अप्रैल में 64,600 डॉलर (क़रीब 48.5 लाख रुपए) तक की क़ीमत पर पहुँचने वाली सबसे पुरानी, सबसे बड़ी और सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी, बिटकॉइन (Bitcoin) अब मानों औंधे मुँह गिरती नज़र आ रही है।

बिटकॉइन (Bitcoin) की क़ीमत पिछले पाँच महीनों के सबसे निचले स्तर पर पहुँचते हुए अब 30,000 डॉलर तक आ गई है। असल में इस आर्टिकल को लिखते वक़्त तक 1 Bitcoin की क़ीमत 34,154.70 डॉलर (क़रीब 25 लाख रुपए) रही।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में 22 जून को बिटकॉइन (Bitcoin) की क़ीमतों में 8.5% की गिरावट के बाद इसकी क़ीमत 29,766.87 डॉलर तक आ गई, जो जनवरी के बाद से इसका न्यूनतम स्तर बताया जा रहा है।

हाँ! पर इतना ज़रूर हुआ कि 23 जून तक इसकी क़ीमतों में कुछ सुधार हुआ और फ़िलहाल ये 4.2% की गिरावट पर दर्ज की गई।

क्या है Bitcoin Price में अचानक गिरावट की वजह?

2009 में चलन में आई वर्चुअल करेंसी, बिटकॉइन (Bitcoin) फ़िलहाल दुनिया की सबसे महँगी क्रिप्टोकरेंसी है, जिसका इस्तेमाल कुछ देशों में ऑनलाइन पेमेंट और डॉलर व अन्य मुद्राओं में एक्सचेंज के लिए किया जाता है।

वैसे देखा जाए तो पिछले साल तक ताकि तेज़ी से क़ीमतों के मामले में रोज़ नए रिकॉर्ड बनाने वाले बिटकॉइन (Bitcoin) को सबसे बड़ा झटका तब लगा जब बीते कुछ महीनों पहले ही Elon Musk ने अपनी इलेक्ट्रिक मोटर कंपनी टेस्ला (Tesla) में इसके लेनदेन को अस्वीकार कर दिया। लेकिन फ़िलहाल इस ताजी गिरावट की वजह कुछ और ही है।

bitcoin-price-down-below-30000-dollar

नई वजह ये है कि चीन के सेंट्रल बैंक ने सोमवार को कुछ बैंकों और पेमेंट कंपनियों को क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग पर कड़ाई करने का आदेश दे डाला। फिर क्या था, दुनिया कि सबसे बदी आबादी वाले देश के इस कड़े रुख़ के बाद से ही तमाम क्रिप्टोकरेंसी की क़ीमतों में गिरावट आई है।

चीन के सेंट्रल बैंक यानी पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना के बयान के तुरंत बाद ही सबसे तेज असर बिटकॉइन (Bitcoin) पर देखने को मिला, जिसका बाद दो हफ़्ते के सबसे निचले स्तर तक आ गया था। और अभी भी इसमें गिरावट देखी जाती रही, जिसका नतीजा ही रहा कि Bitcoin 30000 Dollar तक की क़ीमत पर आ गिरा।

बता दें पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना ने सभी बैंकों और पेमेंट कंपनियों के साथ की गई हालिया बैठक में निर्देश दिया है कि वह सभी अपने ग्राहकों के अकाउंट्स की जांच करें और पता लगाएं कि कौन क्रिप्टोकरेंसी से जुड़े लेनदेन कर रहा है। साथ ही चीन के इस सेंट्रल बैंक ने तुरंत उनके पेमेंट चैनल को बंद करने को कहा है।

1 comment

Comments are closed.