google-india-pauses-play-billing-policy-after-cci-order

CCI – Google (AndroidTV): भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने दुनिया के सबसे बड़े टेक दिग्गज़ में से एक गूगल (Google) के खिलाफ़ एक मामले को लेकर अब जाँच का आदेश दिया है। असल में मामला ये है कि AndroidTV को लेकर Google बाज़ार में अपनें वर्चस्व का ग़लत इस्तेमाल कर रहा है। कैसे? आइए समझतें हैं!

असल में Mint की एक रिपोर्ट के अनुसार CCI ने 19 जून को दिए एक आदेश में Google को भारत के एंटीट्रस्ट नियमों का उल्लंघन करने के मामले में “प्रथम दृष्टया” आरोपी पाया है। इसके बाद CCI ने अपने डायरेक्टर जनरल (DG) को इस मामले में आगे की जांच करने का निर्देश दिया है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

बता दें यह मामला पिछले साल मई के आसपास एंटीट्रस्ट मुद्दों से संबंधित वकीलों, क्षितिज आर्य और पुरुषोत्तम आनंद द्वारा दायर किया गया था। रिपोर्ट के मुताबिक़ इस मामले में Xiaomi का भी नाम आया था, जिससे CCI ने अक्टूबर में Google की तरह ही जवाब माँगा था।

और इसके बाद प्राप्त हुए जवाब के आधार पर ही CCI ने कंपनियों और शिकायतकर्ताओं दोनों पक्ष के सभी पहलुओं पर ग़ौर करने के बाद अब जाँच करने का फ़ैसला किया है।

रिपोर्ट की मानें तो इस आदेश के मुताबिक़ Google ने इन मुद्दों पर ऑनलाइन सुनवाई (वीडियो कॉन्फ्रेंस) के ज़रिए अपना पक्ष रखने की माँग की है।

लेकिन CCI फ़िलहाल अपने पास रिकॉर्ड के तौर पर उपलब्ध जानकारियों आदि के आधार पर ‘प्रथम दृष्टया’ इस बात को लेकर आश्वस्त है कि DG द्वारा जांच किए जाने की ज़रूरत है।

DG असल में CCI का तथ्य-खोज (फ़ैक्ट-फ़ाइंडिंग) निकाय के तौर पर समझा जा सकता है, जो अब इस मामले की विस्तार से जांच करेगा और एक रिपोर्ट CCI को पेश करेगा।

CCI orders investigation into Google for antitrust practices with AndroidTV. Why?

Google के ख़िलाफ़ दर्ज एंटीट्रस्ट मुद्दे से संबंधित इस शिकायत में आरोप लगाया गया है कि “Google अपने AndroidTV प्लेटफॉर्म के लिए लाइसेंस हासिल करने वाली किसी भी कंपनी को अपने प्रतिस्पर्धियों के साथ काम करने से रोकती है।”

cci-orders-investigation-into-google

इसको ऐसे समझिए कि अगर कोई टीवी निर्माता, स्मार्ट टीवी बनाने के लिए Google से उसका AndroidTV ऑपरेटिंग सिस्टम के इस्तेमाल की माँग करता है, तो उसको कंपनी के साथ एक कथित कांट्रैक्ट करना होता है।

और शिकायत के अनुसार कथित रूप से कांट्रैक्ट की शर्तें उस निर्माता को किसी भी अन्य प्रतिद्वंदी कंपनी का अन्य डिवाइस बनाने से रोकती है, फिर चाहे हो टीवी, फोन या कुछ भी हो।

बताया ये जा रहा है कि CCI ने भी पाया है कि स्मार्ट टीवी ऑपरेटिंग सिस्टम इकोसिस्टम में Google की बाजार हिस्सेदारी 65% से अधिक रही है।