google-announces-rs-113-cr-grant-for-80-oxygen-plants-upskilling-in-india

Google Helps To Setup Oxygen Plants in India: टेक दिग्गज़ गूगल (Google) ने गुरुवार को भारत को लेकर अपनी प्रतिबद्धता ज़ाहिर करते हुए देश में 80 ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य कर्मचारियों के स्किल डेवलपमेंट को लेकर ₹113 करोड़ ($1.55 करोड़) की आर्थिक मदद का ऐलान किया है।

आपको बता दें इस बात की जानकारी ख़ुद गूगल (Google) के सीईओ, सुंदर पिचाई (Sundar Pichai) ने Twitter के ज़रिए दी। आपको बता दें कंपनी अपनी परोपकार शाखा Google.Org के माध्यम से कुछ अन्य संगठनों के साथ मिलकर इस मदद की पेशकश करेगी।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

Google Oxygen Plants in India: कुछ ऐसे करेगा ₹113 करोड़ की मदद

Google.Org के इस ऐलान के अनुसार, देश में 80 ऑक्सीजन प्लांटों के निर्माण के लिए कंपनी GiveIndia को क़रीब ₹90 करोड़ ($12.5 मिलियन) और PATH को करीब ₹18.5 करोड़ ($2.5 मिलियन) की वित्तीय सहायता करेगी।

और अपने ऐलान के अनुसार गूगल ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं को मज़बूत बनाने के लिए अपोलो मेडस्किल्स (Apollo Medskills) द्वारा चलाए जा रहें अभियान में भी आर्थिक सहयोग देगा, जिसके ज़रिए कोविड-19 मैनेजमेंट को लेकर क़रीब 20,000 फ़्रंटलाइन हेल्थ वर्कर्स को ट्रेनिंग दी जाएगी।

इसके लिए Google.org 15 भारतीय राज्यों में 180,000 मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (Accredited Social Health Activists or ‘ASHAs’) और 40,000 सहायक नर्स दाइयों (Auxiliary Nurse Midwives or ‘ANMs’) के लिए स्किल प्रोग्राम चलाने के मक़सद से ARMMAN ₹3.6 करोड़ ($500,000) की मदद देगा।

ARMMAN इस अनुदान का इस्तेमाल ASHAs और ANMs को अतिरिक्त सहायता और सलाह प्रदान करने के इरादे से “कॉल सेंटर” बनाने के लिए भी करेगा।

google-oxygen-plant-in-india
Credit: internetsaathiindia.org

इस बीच गूगल इंडिया (Google India) के कंट्री हेड और उपाध्यक्ष संजय गुप्ता ने कहा;

”कंपनी इस बात का ध्यान रखना चाहती है कि इस महामारी के बीच सभी लोगों को सुरक्षित रखने के लिए जरूरी जानकारी और उपकरण दोनों मौजूद हों।”

दिलचस्प ये है कि इसके पहले अप्रैल में भी गूगल ने कोविड-19 आपदा के बीच मदद के तौर पर भारत को ₹135 करोड़ की आर्थिक मदद का ऐलान किया था। उस वक़्त भी ₹135 करोड़ के फ़ंड को Google.org के ज़रिए दो भागों में मदद के लिए मुहैया करवाने की पहल की गई थी।

तब क़रीब ₹20 करोड़ के ज़रिए GiveIndia को प्रदान करते हुए उन लोगों की मदद सुनिश्चित करने का प्रयास किया गया था, जिनको रोज़मर्रा के खर्चे उठाने में भी समस्या हो रही है। और वहीं बाक़ी की राशि UNICEF को देते हुए चिकित्सा आपूर्ति की सप्लाई को भी सुनिश्चित करने की कोशिश की गई थी।

इतना ही नहीं बल्कि ग़ौर करने वाली बात ये है कि उस फ़ंड में वो पैसे भी शमिल रहे जो Google के कर्मचारियों ने मदद के लिए चल रहे कैम्पेन को सपोर्ट करने के लिए दान किए थे। कंपनी की मानें तो तब तक Google के 900 से अधिक Googlers (कर्मचारियों) ने मदद करने वाले संगठनों को सपोर्ट करने के लिए ₹3.7 करोड़ ($500,000) का योगदान दिया था।