ed-issues-show-cause-notice-to-wazirx-for-transactions-involving-cryptocurrencies-worth-rs-2790-cr

ED vs WazirX: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने शुक्रवार को एक बड़ी जानकारी सार्वजनिक करते हुए बताया कि उसने ₹2,790.74 करोड़ के क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को लेकर FEMA (विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम), 1999 के उल्लंघन के तहत क्रिप्टो-करेंसी एक्सचेंज, वज़ीरएक्स (WazirX) को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

जी हाँ! Binance के मालिकाना हक़ वाले क्रिप्टो एक्सचेंज WazirX को ये नोटिस भेजा गया है। ईडी (ED) के अनुसार हाल ही में सामने आए चीन से संबंधित अवैध ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप्स के ज़रिए चल रही मनी लॉन्ड्रिंग जांच के आधार पर FEMA नियमों के उल्लंघन को लेकर भी जांच शुरू की गई है।

क़ानूनी तौर पर Zanmai Labs Pvt Ltd नाम से रजिस्टर्ड WazirX को दिसंबर, 2017 में एक स्थानीय क्रिप्टोकरेंसी स्टार्टअप के रूप में शुरू किया गया था। लेकिन 2019 में ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज Binance ने इस भारतीय स्टार्टअप का अधिग्रहण कर लिया था।

ED Issues Show Cause Notice To WazirX

आपको बता दें केंद्रीय जाँच एजेंसी की ओर से भेजे गए इस कारण बताओ नोटिस में WazirX के साथ ही कंपनी के डायरेक्टर निश्चल शेट्टी (Nischal Shetty) और हनुमान म्हात्रे (Hanuman Mhatre) का भी नाम शामिल है। ये नोटिस प्राथमिक जाँच को पूरा करने के बाद भेजा गया है।

असल में ईडी की मानें तो जाँच के दौरान ये सामने आया कि आरोपी चीनी नागरिकों ने क़रीब ₹57 करोड़ को क्रिप्टो-करेंसी, USDT में परिवर्तित करके और फिर उसे विदेशों से प्राप्त निर्देशों के मुताबिक़ Binance वॉलेट में जमा कर दिया।

ED Issues Show Cause Notice To WazirX

ईडी ने आरोप लगाया कि WazirX ने क्रिप्टो-करेंसी (CCs) और INR में कई प्रकार के लेनदेन की अनुमति दी। इसके साथ ही व्यक्ति से व्यक्ति लेनदेन, और अन्य क्रिप्टो एक्सचेंजों के विदेश में स्थित क्रिप्टो वॉलेट आदि तक में लेनदेन हुए।

WazirX पर ईडी के आरोप ये हैं कि WazirX ने एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग (AML), आतंकवाद के वित्तपोषण (CFT) मानदंडों और फेमा (FEMA) दिशानिर्देशों के तहत बुनियादी और अनिवार्य दस्तावेज कलेक्ट नहीं किए।

जाँच एजेंसी का कहना है कि मामले की जाँच के दौरान WazirX के यूज़र्स ने अपने पूल अकाउंट के ज़रिए Binance अकाउंट से से ₹880 करोड़ की इंकमिंग क्रिप्टोकरेंसी प्राप्त की है और Binance अकाउंट में ₹1,400 करोड़ तक की क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफ़र की।

साथ ही ग़ौर करने वाली बात ये है कि आरोपो के आँसुआर इनमें से कोई भी लेनदेन किसी भी ऑडिट के लिए ब्लॉकचेन पर उपलब्ध नहीं है।

एजेंसी ने कहा कि यह पाया गया कि WazirX के ग्राहक बिना किसी उचित दस्तावेज के किसी भी व्यक्ति को ‘मूल्यवान’ क्रिप्टो-करेंसी ट्रांसफ़र कर सकते हैं, फिर चाहे वो किस भी लोकेशन में हो या किसी भी देश में। और इससे ज़ाहिर तौर पर मनी लॉन्ड्रिंग व अन्य नाजायज गतिविधियों में शामिल लोगों को एक सुरक्षित विकल्प मिलता है।