instagram-reveals-how-feed-works

Instagram Reveals How Feed Works: अक्सर हमें अपने इंस्टाग्राम (Instagram) फ़ीड पर कई तरह के पोस्ट दिखते हैं, लेकिन सोचते वाली बात ये है कि ये तय कैसे होता है कि किसका पोस्ट हमारे फ़ीड पर कब और कैसे रैंक होगा? तो इसका जवाब अब इंस्टाग्राम (Instagram) ने ख़ुद बताया है।

जी हाँ! असल में इंस्टाग्राम (Instagram) के सीईओ एडम मोसेरी (Adam Mosseri) ने ख़ुद एक ब्लॉग के ज़रिए इस बात का ख़ुलासा किया है कि प्लेटफ़ॉर्म का एल्गोरिदम कैसे काम करता है।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

असल में इस ब्लॉग के ज़रिए कंपनी के सीईओ की कोशिश है कि प्लेटफ़ॉर्म को लेकर बनी कई तरह की गलत धारणाओं को दूर किया जाए और अपने यूज़र्स को यह समझाया जाए कि उनके फ़ीड पर कोई पोस्ट क्यों और कैसे नज़र आते हैं और फ़ीड पर पोस्ट का सीक्वेंस कैसे तय होता है?

एडम के ब्लॉगShedding More Light on How Instagram Works‘ के मुताबिक़ इंस्टाग्राम इसके लिए कई तरह के एल्गोरिदम और प्रक्रियाओं का इस्तेमाल करता है, जिनको उन्होंने मुख्यतः 4 बिंदुओं में बाँटते हुए बताया। एडम का दावा है कि फ़ीड और स्टोरीज़ के क्रम आदि को तय करने में ये अहम है चरण होते हैं;

instagram-reveals-algorithm-of-working

Instagram Reveals How Feed Works –

पोस्ट के बारे में जानकारी (Information about the post): इसका सीधा सा मतलब ये है कि कोई पोस्ट कितनी लोकप्रिय है, जैसे  – कितने लोगों ने उसको लाइक किया है? – कंटेंट को लेकर पहले से कितनी जानकारी मौजूद है? – पोस्ट कब किया गया है?  अगर पोस्ट वीडियो है तो वह कितना लम्बा है? – पोस्ट किस जगह से किया गया है? – पोस्ट के साथ कोई लोकेशन टैग की गई है या नहीं?

पोस्ट करने वाले व्यक्ति के बारे में जानकारी (Information about the person who posted): इससे प्लेटफ़ॉर्म ये समझने की कोशिश करता है कि पोस्ट करने वाला व्यक्ति आपके लिए कितना दिलचस्प है? और साथ ही पिछले कुछ हफ्तों में कितने लोगों ने उस व्यक्ति के साथ कितनी बार बातचीत की है?

आपकी गतिविधि (Your activity): इससे प्लेटफ़ॉर्म को ये समझने में मदद मिलती है कि यूज़र की ख़ास तौर पर किन चीज़ों में रुचि हो सकती है? इसका आंदाज़ा मुख्यतः यूज़र्स के द्वारा लाइक की गई पोस्ट्स के आधार पर किया जाता है।

किसी के साथ बातचीत का इतिहास (Your history of interacting with someone): इसके तहत प्लेटफ़ॉर्म ये आंदाज़ा लगाता है कि यूज़र किसी विशेष व्यक्ति की पोस्ट देखने में कितनी रुचि रखते हैं? जैसे यूज़र्स एक-दूसरे की पोस्ट पर कितना कमेंट करते हैं या नहीं?

वहीं इसके साथ ही एडम ने ये भी बताया कि फ़ीड रैंकिंग इस बात पर भी निर्भर करती है कि कि यूजर ने किसी पोस्ट को किस समय पर शेयर किया है।

साथ ही एडम के मुताबिक़ इंस्टाग्राम किसी की फीड को तब बार-बार फ़ीड पर दिखाता है, जब यूज़र ने किसी चुनिंदा पोस्ट पर कुछ समय बिताया है या उसमें कॉमेंट किया हो, लाइक किया हो या सेव किया हो या उसकी प्रोफ़ाईल बार बार देखी हो।

वैसे ज़ाहिर है इंस्टाग्राम किसी भी यूज़र्स के फीड को लेकर ऐसे तमाम संकेतों को हर वक़्त अपडेट करता रहता है। लेकिन और एक दिलचस्प बात का खुलासा करते हुए एडम बताते हैं कि इंस्टाग्राम एक ही व्यक्ति की लगातार कई पोस्ट दिखाने से बचने की कोशिश करता है।

मोटे तौर पर एडम ने हमें यही बताने की कोशिश की है कि प्लेटफ़ॉर्म डेटा का उपयोग करके एक “शिक्षित अनुमान” लगाता है और ये तय करता है कि आपकी फ़ीड पर पहले क्या दिखे?