apple-facetime-is-coming-to-android-breaking-walled-garden-strategy
Credit: Apple

ऐप्पल (Apple) ने इस साल के वर्ल्डवाइड डेवलपर्स कॉन्फ्रेंस (WWDC 2021) में हमेशा की तरह कुछ बड़े ऐलान किए, लेकिन जिस एक ऐलान ने सबको हैरान किया, वो था ऐप्पल (Apple) के वीडियो-ऑडियो कॉलिंग ऐप फेसटाइम (FaceTime) को एंड्रॉइड (Android) और विंडोज़ (Windows) पर भी पेश किए जाने का।

जी हाँ! एक तरफ़ फेसटाइम (FaceTime) को जहाँ Apple ने कुछ बेहतरीन और बहुप्रतीक्षित नए फ़ीचर्स से लैस किया गया, वहीं Windows और Android यूज़र्स के लिए भी इसको पेश करने की घोषणा करते हुए, अब FaceTime को बाज़ार में पहले से मौजूद Zoom और Google Meet से प्रतिद्वंदिता करने के लिए नई ज़मीन प्रदान कर दी।

ऐसी तमाम ख़बरें सबसे पहले पाने के लिए जुड़ें हमारे टेलीग्राम चैनल से!: (टेलीग्राम चैनल लिंक)

अब तक लोगों के बीच iPhones की ओर रुझान करने के पीछे कई बार फेसटाइम (FaceTime) एक बड़े कारण के रूप में देखा जाता है।

Apple के इस iOS एक्सक्लूसिव वीडियो-ऑडियो कॉलिंग ऐप को एंड्रॉइड और विंडोज प्लेटफॉर्म पर पाकर बेहद इसके उपयोगकर्ता आधार में तेज वृद्धि दर्ज किए जाने की संभावना है।

गैर-ऐप्पल यूज़र्स के लिए FaceTime की पेशकश संबंधित इस घोषणा को ऐपल की Walled Garden रणनीति में बदलाव के संकेत के रूप में देखा जा रहा है।

क्या है Apple की Walled Garden स्ट्रैटेजी?

Walled Garden रणनीति को आसान भाषा में ऐसे समझिए कि कुछ विशेष सर्विस/फ़ीचर्स को सिर्फ़ iOS ईकोसिस्टम तक समेटे रखना, मतलब चारदीवारी के भीतर (किसी दीवार से घिरे गार्डेन जैसे)।

apple-facetime-on-android-and-windows

ऐसा करने से iOS डिवाइसों के लिए Apple को एक यूनिक सेलिंग प्वाइंट (USP) मिल जाता है, कि ये सर्विस आपको किसी अन्य कम्पनी के डिवाइसों पर नहीं मिलेगी, भले आप कितनी ही भारी क़ीमत क्यों ना अदा कर दें।

क्या पूरी तरह से Android या Windows यूज़र्स के लिए नहीं आ रहा FaceTime?

भले WWDC 2021 में iOS 15 पेश करने के शुरुआती हिस्से में Apple ने FaceTime को लेकर ये ऐलान किया हो, लेकिन तकनीकी रूप से जहाँ एक तरफ़ एंड्रॉइड और विंडोज उपयोगकर्ता ब्राउज़र के ज़रिए फेसटाइम कॉल से जुड़ सकेंगें, वहीं दूसरी ओर एंड्रॉइड और पीसी यूज़र्स ख़ुद से फ़ेसटाइम पर कोई कॉल नहीं कर सकेंगें।

जी हाँ! Apple की वो Walled Garden रणनीति कमजोर नहीं हुई है, बस उसको बड़ी सावधानी से और भी यूज़र्स को Apple ईकोसिस्टम से जुड़ने या आकर्षित करने के लिए थोड़ा तोड़ा-मरोड़ा गया है।

जैसा हमनें बताया ग़ैर-ऐप्पल डिवाइस यूज़र्स ख़ुद से फेसटाइम कॉल सेट नहीं कर सकेंगें। इसके लिए अभी भी एक ऐप्पल डिवाइस और ऐप्पल अकाउंट की ज़रूरत होगी। ग़ैर-ऐप्पल यूज़र्स सिर्फ़ किसी ऐप्पल यूज़र्स द्वारा सेटअप की गई कॉल पर एक इन्वाइट लिंक के ज़रिए जुड़ सकेंगें।

तो आप समझ हाई गए होंगें कि Apple बस दूसरे यूज़र्स को अपनी सेवाओं का थोडा स्वाद चखाना चाहता है ताकि अगर उन्हें स्वाद पसंद आए तो वो पूरी डिश को ख़रीदना चाहें, मतलब Apple डिवाइसों को।

इस बीच आपको बता दें कि कंपनी ग़ैर-ऐप्पल यूज़र्स के लिए फ़ेसटाइम की सुविधा को इस साल के अंत तक पेश सकती है।